मुख्यपृष्ठखेलरचा इतिहास : नीरज चोपड़ा के बाद मनु और किशोर भी फाइनल...

रचा इतिहास : नीरज चोपड़ा के बाद मनु और किशोर भी फाइनल में पाक के साथ होगा गोल्डन मैच!

भारत के स्टार एथलीट नीरज चोपड़ा ने विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के फाइनल में जगह बना ली है। उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में ८८.७७ मीटर दूर भाला फेंका और फाइनल में जगह बना ली। नीरज के साथ डीपी मनु और किशोर जेना भी फाइनल में पहुंच गए हैं। नीरज चोपड़ा ने विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में ८५ मीटर से ज्यादा दूर भाला फेंकने के साथ ही पेरिस ओलंपिक के लिए भी क्वालिफाई कर लिया है। पेरिस ओलंपिक में जगह बनाने के लिए कम से कम ८५.५० मीटर की दूरी हासिल करना जरूरी है और नीरज ने अपने पहले ही प्रयास में ८८.७७ मीटर की दूरी हासिल की।
नीरज के अलावा डीपी मनु और किशोर जेना ने भी विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के फाइनल में जगह बना ली है। रविवार को खेले जानेवाले फाइनल में गोल्ड मेडल के लिए भारत-पाक मुकाबला होने वाला है। क्योंकि पाकिस्तान के अरशद नदीम ने ८६.७९ मीटर का लाजवाब थ्रो किया। ऐसे में फाइनल और भी रोमांचक साबित होनेवाला है।
भारत जीत सकता है तीनों पदक
तीन प्रयास में मनु का सबसे बेहतर स्कोर ८१.३१ मीटर रहा, जो उन्होंने दूसरे प्रयास में हासिल किया। पहले प्रयास में उन्होंने ७८.१० और तीसरे प्रयास में ७२.४० की दूरी हासिल की और पहले छठे स्थान पर रहे। वहीं, किशोर जेना ने भाला फेंका और नौवें स्थान पर रहकर फाइनल के लिए क्वालिफाई किया। अब भारत के पास तीनों पदक जीतने का मौका है। अगर ये तीनों खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो पहली बार भारत जैवलिन थ्रो में विश्व चैंपियनशिप में तीनों पदक जीत सकता है।
गोल्ड पर होगा नीरज का निशाना
गौरतलब है कि नीरज के पास एक शानदार उपलब्धि हासिल करने का मौका है। अगर वे विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत जाते हैं तो निशानेबाज अभिनव बिंद्रा की बराबरी कर लेंगे। अभिनव बिंद्रा ने ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप की व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था। अगर नीरज भी गोल्ड जीतते हैं तो वे ऐसा करने वाले दूसरे भारतीय बन जाएंगे। अभिनव बिंद्रा ने २००८ में ओलंपिक गोल्ड मेडल जीता था। वे व्यक्तिगत स्पर्धा में ऐसा करने वाले पहले भारतीय थे।
पाकिस्तान के नदीम भी फाइनल में
मेन्स जैवलिन थ्रो इवेंट के लिए ३७ जैवलिन थ्रोअर्स में से कुल १२ खिलाड़ियों ने फाइनल मुकाबले में जगह बनाई। नीरज चोपड़ा के अलावा पाकिस्तान के अरशद नदीम और चेक रिपब्लिक के जैकब वाडलेच ही ऑटेमेटिक क्वालिफाई कर पाए। नदीम ने ८६.७९ मीटर का लाजवाब थ्रो किया, वहीं वाडलेच का बेस्ट अटेंट ८३.५० मीटर रहा। ऑटेमेटिक क्वालिफाई करने के लिए क्वालिफिकेशन मार्क ८३ मीटर था।

अन्य समाचार