मुख्यपृष्ठनए समाचारसुरक्षा से अस्पतालों का समझौता! फायर सेफ्टी यंत्र मिले बंद

सुरक्षा से अस्पतालों का समझौता! फायर सेफ्टी यंत्र मिले बंद

सामना संवाददाता / मुंबई
मुंबई मनपा क्षेत्र में चल रहे निजी अस्पतालों में लोगों की सुरक्षा से खिलवाड़ किया जा रहा है। मुंबईकरों की सुरक्षा के लिए ११ से २५ जुलाई तक फायर ब्रिगेड विभाग की ओर से अग्नि सुरक्षा यंत्र की जांच को लेकर जोरदार अभियान चलाया गया। अभियान में १,२५८ नर्सिंग होमों की अग्नि सुरक्षा से जुड़ी व्यवस्था की जांच की गई, इसमें से ४४१ जगहों पर अग्नि सुरक्षा यंत्र पूरी तरह बंद होने की सनसनीखेज जानकारी सामने आई है। इसे गंभीरता से लेते हुए मनपा ने १० नर्सिंग होमों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है, वहीं ६५० को नोटिस भेजा है। ५१ के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू की है।
कोरोना काल में भंडारा जिले के शिशु केयर सेंटर में भीषण आग लग जाने से १० बच्चों की मृत्यु हो गई थी। भांडुप स्थित ड्रीम मॉल के भीतर बने सनराइज अस्पताल में लगी आग में ११ लोगों की मौत हो गई थी। इसी प्रकार विरार के एक अस्पताल में लगी आग से १३ लोगों की मौत हो गई थी। ऐसे में मुंबई मनपा क्षेत्र के निजी अस्पतालों की अग्नि सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल उठने लगे थे, जिसे देखते हुए मनपा ने सभी निजी अस्पतालों एवं नर्सिंग होम की अग्नि सुरक्षा व्यवस्था को लेकर अभियान चलाया। खामियां पाए जाने पर कई अस्पतालों को अग्नि सुरक्षा-व्यवस्था दुरुस्त करने का निर्देश दिया गया है, तो कई को नोटिस दे दी गई है।
४ नर्सिंग होमों पर १० हजार रुपए का दंड
जांच अभियान के दौरान चार नर्सिंग होमों में अग्नि सुरक्षा यंत्र को लेकर गंभीर खामियां पाई गईं , जिस कारण मनपा ने १० हजार रुपए का दंड लगाया है। इस बीच नोटिस दिए हुए सभी नर्सिंग होमों को १२० दिन के अंदर अग्नि सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त करने की चेतावनी दी गई है और रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया गया है। अन्यथा इनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। इनके बिजली-पानी के कनेक्शन काट दिए जाएंगे और ताला मार दिया जाएगा।
ऐसे हुई कार्रवाई
अग्नि सुरक्षा व्यवस्था सक्षम वाले नर्सिंग होम- ६४३
खामियां पाए जाने वाले नर्सिंग होम- ४४१
नोटिस पानेवाले नर्सिंग होम- ६५०
एफआईआर दर्ज- १०
कानूनी कार्रवाई शुरू- ५१

अन्य समाचार