मुख्यपृष्ठनए समाचारमुस्लिम महिलाएं कैसे बनेंगी शिक्षित? ... तटकरे के इशारे पर हड़प ली...

मुस्लिम महिलाएं कैसे बनेंगी शिक्षित? … तटकरे के इशारे पर हड़प ली जमीन! … जितेंद्र आव्हाड का गंभीर आरोप

सामना संवाददाता / मुंबई
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (शरद चंद्र पवार) के नेता और विधायक जितेंद्र आव्हाड ने आरोप लगाया है कि मुस्लिम महिलाओं की शिक्षा के लिए स्थापित ट्रस्ट की जमीन हड़पने के पीछे अजीत पवार गुट के प्रदेश अध्यक्ष सुनील तटकरे का हाथ है। यह आरोप राकांपा नेता और विधायक जितेंद्र आव्हाड ने संवाददाता सम्मेलन में लगाया। आव्हाड ने कहा कि मुस्लिम समुदाय की महिलाओं की शिक्षा के लिए डॉ. उंद्रे द्वारा स्थापित ट्रस्ट पर कब्जा करने और ट्रस्ट की ५० करोड़ रुपए की जमीन हड़पने की कोशिश की गई है। इसके पीछे सुनील तटकरे का हाथ है। डॉ. उंद्रे ने इस जमीन पर स्कूल और कॉलेज खोलने के मकसद से जमीन दी थी ताकि अल्पसंख्यक महिलाएं शिक्षा ग्रहण कर सकें। लेकिन, इस ट्रस्ट में अपनी पसंद के लोगों को बैठाकर डॉ. उंद्रे के रिश्तेदारों के फर्जी हस्ताक्षर से ट्रस्ट पर कब्जा कर लिया गया है। आव्हाड ने कहा कि इन सबके पीछे सांसद सुनील तटकरे का हाथ है। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक और पिछड़ा वर्ग समाज को जानबूझकर परेशान करने का काम किया जा रहा है।
दादा के बिगड़े बोल
पुणे जिले के इंदापुर में महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने चिकित्सकों की एक सभा को संबोधित किया, जिसमें वे कन्या भ्रूण हत्या और राज्य के कुछ हिस्सों में लिंग अनुपात पर भी चर्चा करने लगे। अजीत पवार ने अपने बयान में कहा कि कुछ जिलों में पुरुष और महिला अनुपात खराब है, यहां तक कि १००० पुरुषों पर ८५० महिलाएं हैं। ऐसा रहा तो चीजें मुश्किल हो जाएंगी। ऐसी कि भविष्य में किसी को द्रौपदी (एक महिला के कई पति होने के संदर्भ में) के बारे में सोचना पड़ सकता है, हालांकि, पवार ने तुरंत यह भी साफ किया कि द्रौपदी के उदाहरण से उनका इरादा किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं है।

अजीत पवार ने किया महिलाओं का अपमान!
जितेंद्र आव्हाड ने उपमुख्यमंत्री अजीत पवार के बयान की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि अजीत पवार का दिमाग खराब हो गया है, उनको सभी महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने आगे यह भी कहा कि शरद पवार ने महिलाओं को ५० फीसदी रिजर्वेशन देकर उनको मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास किया और अजीत पवार महिलाओं का अपमान कर रहे हैं।

अन्य समाचार