मुख्यपृष्ठसमाचारदुर्गंध में कैसे होगा विद्या दान?

दुर्गंध में कैसे होगा विद्या दान?

-कल्याण के बच्चों पर कचरे का कहर

-शिंदे सरकार की अनदेखी का खामियाजा भुगत रहे हैं छात्र

संदीप पांडेय / मुंबई

घाती सरकार को स्कूली बच्चों के भविष्य की जरा भी परवाह नहीं है, जिससे बच्चों का भविष्य अंधकार में होता दिखाई दे रहा है। इसका सीधा उदाहरण कल्याण के म्हारलपाड़ा में स्थित जिला परिषद का प्राथमिक शाला है। पंचायत समिति के इस स्कूल में पढ़ने वाले नन्हे-मुन्ने बच्चों को काफी तकलीफों के साथ पढ़ना पड़ रहा है। बच्चों को गंदगी के अलावा कचरों की बदबू के साथ स्कूल में समय बिताना पड़ रहा है, क्योंकि स्कूल के बगल में ही इलाके के कचरों को डंप किया जाता है। सुबह-शाम बच्चे इस कूड़ा-कचरे के ढेर को पार करके स्कूल आते-जाते हैं। पंचायत समिति के स्कूलों में बच्चों को अच्छी शिक्षा से लेकर हर वह सुविधा मिलनी चाहिए जिसके वे हकदार हैं, लेकिन म्हारलपाड़ा के इस स्कूल में ऐसा नहीं है। बच्चों को सुविधा के नाम पर इस नरक में पढ़ना पड़ रहा है।
जि. प. प्राथमिक शाला के बगल में डंप किए जाने वाला कचरा हवा में उड़कर इधर-उधर फैलता है। आज इस पंचायत समिति स्कूल की स्थिति ऐसी है कि यह चारों तरफ कचरों से घिरा हुआ है। इतना ही नहीं, इन कचरों में आग लगने के बाद बच्चों को नुकसानदायक धुएं से भी जूझना पड़ता है। इसके बावजूद पंचायत समिति के अधिकारी अपनी आंखों पर पट्टी बांधे बैठे हैं। वह इस पर किसी भी प्रकार की कार्रवाई करने को तैयार नहीं हैं। इस कचरा को साफ करवाने और इसे कहीं और डंप करवाने में उनकी असमर्थता देखने को मिल रही है। ऐसे माहौल में पढ़ने वाले बच्चों के दिमाग पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है।

लोगों में सरकार को लेकर है नाराजगी
बच्चों की ऐसी दशा देखकर लोगों में सरकार और पंचायत समिति के अधिकारियों के प्रति काफी आक्रोश है। स्थानीय नागरिकों का कहना है कि यह सरकार का बच्चों पर जुल्म है। मुख्यमंत्री शिंदे को चाहिए कि बड़े-बड़े दावों को छोड़कर पहले इन स्कूली बच्चों की परेशानियों पर ध्यान दें, क्योंकि ये बच्चे कल का भविष्य है।

ग्राम पंचायत क्षेत्र में आता है स्कूल
कल्याण में स्थित पंचायत समिति के कार्यालय में एमडीएम अधीक्षक सुनीता मोटघरे ने इस बारे में बताया कि पंचायत समिति का यह स्कूल ग्राम पंचायत के क्षेत्र में आता है इसलिए हमने ग्राम पंचायत को कई बार कचरे के इस डंपिंग को स्कूल के पास से हटाने के लिए लेटर दिया, लेकिन ग्राम पंचायत डंपिंग को वहां से हटाने के लिए तैयार नहीं । उनकी तरफ से अभी तक इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

अन्य समाचार