मुख्यपृष्ठग्लैमर‘मैंने उन्हें डराने की एक्टिंग की थी!’- फैसल खान

‘मैंने उन्हें डराने की एक्टिंग की थी!’- फैसल खान

डांसर से अभिनेता बने फैसल खान उम्दा डांसर हैं। रियलिटी शो डांस इंडिया डांस लिटल मास्टर-२ के विजेता के रह चुके पैâसल ने २०१३ में ऐतिहासिक टीवी धारावाहिक ‘भारत के वीर पुत्र महाराणा प्रताप’ में बाल महाराणा प्रताप, ‘चंद्रगुप्त मौर्य’ में युवा चंद्रगुप्त और ‘सीआईडी’ के कुछ एपिसोड्स में काम किया। इस समय फैसल ‘धर्मयोद्धा गुरुड़’ में गरुड़ की केंद्रीय भूमिका निभा रहे हैं। पेश है, फैसल खान से पूजा सामंत की हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

आपका अभिनय में आना कैसे हुआ?
ये मेरे माता-पिता का सब्र है, जिसकी वजह से मैं यहां तक पहुंच पाया। टीवी पर ‘डांस इंडिया डांस’ का ऑडिशन हो रहा था। मेरा सिलेक्शन हुआ और मैं विजेता बना। मेरे डांस को देखकर मुझे शो में कास्ट किया गया और मैं अब यहां तक पहुंचा हूं। बचपन में अपनी बहनों के सामने बेहोश होने की एक्टिंग करता था, ताकि उन्हें डराने की एक्टिंग कर सकूं लेकिन रियल में एक्टिंग करूंगा पता नहीं था।
गरुड़ की भूमिका में खास क्या था?
ये भूमिका बहुत चुनौतीपूर्ण और अलग है क्योंकि गरुड़ के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। गरुड़ की कहानी में कितनी गहराइयां हैं, इसे जानने पर मैं दंग हो गया।
गरुड़ की भूमिका निभाने के लिए क्या-क्या करना पड़ा?
मुझे मानसिक रूप से बहुत तैयारी करनी पड़ी क्योंकि ऐसा चरित्र मैंने कभी देखा नहीं था। रियल गरुड़ दिखने के लिए मैंने मन में सोचा कि गरुड़ देखने में वैâसा होगा, उसकी चाल वैâसी होगी, अपने संवाद वो वैâसे बोलेगा आदि सब मानसिक रूप से तैयार करना पड़ा। मेरा वजन १० किलो अधिक था इसलिए मुझे वजन कम करना पड़ा।
इस शो से यूथ को किस तरह की प्रेरणा मिलेगी?
इस शो में दिखाया गया है कि गरुड़ अपनी मां की हर बात किस तरह मानता है, जबकि आज के माहौल में बच्चे माता-पिता की बात नहीं सुनते हैं। बच्चों को माता-पिता की बात सुनना जरूरी है। माता-पिता बच्चे की भलाई के लिए ही कुछ कहते हैं। इस शो से बच्चों को सीख अवश्य मिलेगी।
आजकल का यूथ विद्रोही है। इस बारे में आपका क्या कहना है?
आज के पैरेंट्स बच्चों की बहुत अधिक केयर करते हैं, जिससे वे इंडिपेंडेंट नहीं बन पाते। मेरा परिवार भी मुझे बहुत प्यार करता है, लेकिन उनके हिसाब से मुझे खुद आत्मनिर्भर होने की आवश्यकता है, ताकि मैं अपनी जिम्मेदारी खुद संभाल सकूं। इसमें पैरेंट्स और बच्चे सहित सभी को समझने की जरूरत है।
 क्या आप फिल्म और टीवी सीरीज में काम करना चाहते हैं?
कोविड की वजह से वेब सीरीज का क्रेज बढ़ा है, कई निर्माता-निर्देशक जो टीवी पर शो बनाते थे, उन्होंने वेब सीरीज बनाना शुरू कर दिया है। हमारे घर में केबल नहीं है। हम सब वेब सीरीज ही देखते हैं, परंतु कभी-कभार ऐसे अभद्र सीन होते हैं कि सबके सामने बैठकर देखना मुश्किल हो जाता है। असल में हर वेब सीरीज मनोरंजक नहीं होती। वेब सीरीज में काम मिलेगा तो अवश्य करना चाहूंगा।
क्या आज के फास्ट युग में दर्शक पौराणिक कहानियां देखना पसंद करते हैं?
हमारे देश में सभी धर्म के लोग प्यार-मोहब्बत से रहते हैं। दीवाली, ईद, होली साथ में मनाई जाती है। ‘रामायण’, ‘महाभारत’ को पूरी दुनिया के दर्शकों ने बहुत प्यार से देखा है और रिपीट रन भी इसे बहुत मिला इसका आपको भी एहसास है। अभी-अभी ‘गरुड़’ शो की शुरुआत हुई है और बहुत अच्छी टीआरपी इसे मिल रही है। पौराणिक-धार्मिक शोज हमारे देश की धरोहर है, इसे हर पीढ़ी के दर्शक देखना पसंद करेंगे।

अन्य समाचार