मुख्यपृष्ठसमाचारविलुप्त हुए मेंढक तो संकट में आ जाएगी जिंदगी! वैज्ञानिकों ने लोगों...

विलुप्त हुए मेंढक तो संकट में आ जाएगी जिंदगी! वैज्ञानिकों ने लोगों के स्वास्थ्य को लेकर चेताया

मानव स्वास्थ्य पर हुए शोधों में पाया गया है कि दुनिया में जब भी किसी इलाके में मेंढक जैसे उभयचरों की संख्या में कमी देखने को मिलती है तो इसका सीधा असर लोगों पर भी पड़ता है। उस इलाके में मलेरिया जैसी बीमारियों के मामले बढ़ने लगते हैं। वैज्ञानिकों ने मानव स्वास्थ्य को लेकर चेताते हुए कहा कि आज अगर हमारे आस-पास इतने ज्यादा मच्छर हैं तो इसकी एक बड़ी वजह है कि हमने मच्छर के मुख्य शिकारी मेंढक को मार डाला है। कई सालों तक हमने मेंढक की टंगड़ी का निर्यात किया। इसे जिंदा मेंढक से काट लिया जाता था। सरकार ने जब रोक लगाई तब तक बेचारे मेंढकों की संख्या बहुत कम हो चुकी थी। इसके बाद आया कीटनाशकों का हमलावर चलन, जल-प्रांतर सूखने लगे, पानी प्रदूषित हुआ और देश की सरकारों ने बड़े आक्रामक तेवर में बस्तियां बसायीं और मेंढक तकरीबन समाप्त हो गए। अफसोस है कि अब आपके बच्चे कभी मेंढक नहीं देख पाएंगे। दक्षिण अमेरिका और भारत में सबसे ज्यादा संख्या में मेंढक पाए जाते हैं और हमें अब भी उनकी नई-नई प्रजातियों के बारे में पता चलता रहता है। भारत में बैंगनी रंग का एक मेंढक पाया जाता है। अब इन मेंढकों की अदा का क्या कहिएगा कि ये अपने पिछले पैर को कुछ यों बाहर निकालते हैं मानो किसी की पीठ पर सवारी करने जा रहे हों। वैज्ञानिकों ने हाल ही में पता लगाया है कि मेंढकों की अपनी भाषा होती है।
काफी संवेदनशील होते हैं मेंढक
वैज्ञानिकों का कहना है कि मेंढक का विकसित होता भ्रूण अपनी जेलीनुमा अवस्था में भी काफी चौकन्ना होता है। अगर किसी शिकारी के आने की आहट मिले तो ट्री फॉग का भ्रूण अपनी लाल आंखों से हवा में मौजूद कंपन के सहारे इस आहट को भांप लेता है। खतरा महसूस होते ही भ्रूण चंद सेकेंडों के भीतर अंडे से निकलकर अपने लिए सुरक्षित स्थान खोज लेता है, भले ही अंडे से निकलने का विहित समय अभी कई दिन दूर हो। इस भ्रूण को पता होता है कि बारिश की बूंद गिरती है तो हवा में कैसा  कंपन पैदा होता है और कोई सांप सरसराता है तो कंपन की गति क्या होती है? भ्रूण ततैया के पंखों की कंपन और फंगस के पहुंचने की आहट का फर्क अपनी संवेदनशीलता से पहचान लेता है, उसे इन सबसे निकलने वाली तरंगों का फर्क पता होता है!

अन्य समाचार