मुख्यपृष्ठटॉप समाचारशिवसेना नहीं होती तो हिंदुत्व नहीं होता! शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे की हुंकार:...

शिवसेना नहीं होती तो हिंदुत्व नहीं होता! शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे की हुंकार: भारत माता की जय कहने से क्या शत्रु भाग जाएंगे?

सामना संवाददाता / मुंबई
यदि शिवसेना नहीं होती तो हिंदुत्व नहीं होता। चाहे जितने भी लोग आ जाएं शिवसेना को खत्म नहीं कर सकते। घर-घर तिरंगा फहराने के साथ हृदय में भी तिरंगा होना चाहिए। क्या भारत माता कह देने भर से शत्रु भाग जाएंगे? देश की गद्दी पर बैठ गए इसलिए हम करें सो कानून, यह लोकतंत्र नहीं है। शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कल इन शब्दों में जोरदार हुंकार भरते हुए केंद्र सरकार की खबर ली। वे कल साप्ताहिक ‘मार्मिक’ के ६२वें स्थापना दिवस पर बोल रहे थे। शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने ‘मार्मिक’ के पाठकों, शिवसैनिकों और तमाम जनता को सोशल मीडिया के माध्यम से संबोधित किया।
शिवसेनापक्षप्रमुख ने ‘मार्मिक’ के स्थापना दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज ‘मार्मिक’ की ६२वीं वर्षगांठ है। मेरी भी उम्र लगभग ६२ की हो गई है। मैं शिवसेना का पक्षप्रमुख हूं। कल तक मुख्यमंत्री था। कल फिर शिवसेना की सत्ता आएगी ही। यह आना-जाना लगा ही रहता है। उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि नड्डा का कहना है कि देश में एक ही पार्टी रहेगी। बाकी क्षेत्रीय पार्टियां खत्म हो रही हैं। विशेषकर शिवसेना खत्म होती जा रही है। देखा जाएगा, उन्होंने प्रदेशाध्यक्ष बनाया है, उनके नाम में कुले है। उनके नाम में कितने कुले हैं, पता नहीं। लेकिन कितने भी कुल उतर जाएं फिर भी शिवसेना को खत्म नहीं कर सकते। चाहे वे ५२ हों या फिर १५२, मुझे कोई फर्वâ नहीं पड़ता। सेना में कटौती घातक -पेज २

अन्य समाचार