मुख्यपृष्ठनए समाचारहमने ठान ली तो रातों-रात खत्म हो जाएगी भाजपा!

हमने ठान ली तो रातों-रात खत्म हो जाएगी भाजपा!

-छोटे दलों को साथ लेकर फिर बनानी पड़ रही एनडीए

संजय राऊत का भाजपा पर जोरदार हमला

सामना संवाददाता / मुंबई

मोदी की भाजपा देश के संविधान को नहीं मानती है। मोदी-शाह की विचारधारा देश में लोकतंत्र को खत्म करने की है। साथ ही भाजपा का रुख पूरी तरह से तानाशाही वाला है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का बयान है कि हम दूसरी पार्टियों के साथ ही क्षेत्रीय पार्टियों को खत्म कर देंगे। लेकिन अब उन्हें लोकसभा चुनाव के लिए दूसरी पार्टियों को तोड़ना पड़ रहा है। कई छोटी-छोटी पार्टियों को अपने साथ ले, उन्हें फिर से एनडीए बनानी पड़ रही है। भाजपा में शामिल हुए कांग्रेसियों और हमारे जैसे लोगों ने ठान लिया तो भाजपा एक रात में खत्म हो जाएगी। इस तरह का जोरदार हमला शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता व सांसद संजय राऊत ने किया। उन्होंने कहा कि दल को बचाने के लिए दूसरे दलों के प्रमुखों की जरूरत होती है।
शिवसेना नेता व सांसद संजय राऊत ने कल मीडिया से बात करते हुए भाजपा और प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले पर जोरदार हमला किया। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के लिए अन्य पार्टियों को तोड़ने का समय अब भाजपा के सामने आ गया है। साल २०२४ में भाजपा कांग्रेसमय बन गई है। भाजपा में शामिल हुए कांग्रेसियों और हम जैसे लोगों ने अगर ठान लिया तो भाजपा एक ही दिन में खत्म हो जाएगी। भाजपा में इस समय ३०३ में से सिर्फ ११० सांसद ही उसके हैं। संजय राऊत ने हमला करते हुए कहा कि अगर इन सभी ने भाजपा छोड़ने का फैसला किया, तो देश भाजपा मुक्त हो जाएगा।
आप इतने दिन क्या कर रहे थे?
संजय राऊत ने कहा कि आज भी भाजपा को पार्टी बचाए रखने के लिए शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस और कांग्रेस के नेताओं की जरूरत पड़ रही है। संजय राऊत ने तंज कसते हुए कहा है कि छोटी पार्टियों को खत्म करने और बड़ी पार्टियों को तोड़ने की भाजपा की भूमिका देश के लिए खतरनाक है।
उनकी थी भूमिका
संजय राऊत ने महाविकास आघाड़ी में सीट बंटवारे और वंचित बहुजन आघाड़ी के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि प्रकाश आंबेडकर और वंचित महाविकास आघाड़ी घटक हैं। हमें महाविकास आघाड़ी में शामिल करें, यह उनकी भूमिका थी। उनके अनुरोध का सम्मान करते हुए हमने उन्हें शामिल किया। इसलिए वे बैठक, सीट बंटवारे की चर्चा में भाग लेते हैं।
देश में शुरू है संविधान बचाने की लड़ाई
संजय राऊत ने कहा कि देश में संविधान बचाने की लड़ाई भी चल रही है। प्रकाश आंबेडकर डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के उत्तराधिकारी हैं। इसलिए देश के संविधान और संविधान की रक्षा करना उनका कर्तव्य है। इसलिए भले ही हमारे एक-दूसरे के साथ मतभेद हों, हम मोदी-शाह को हराने और लोकतंत्र के लिए एक साथ आए हैं।
सीट बंटवारे पर २७ को एक साथ चर्चा
संजय राऊत ने कहा कि महाविकास आघाड़ी २७ तारीख को सीट बंटवारे पर एक साथ चर्चा करेगी। इसके लिए हमने वंचित विकास आघाड़ी को सम्मानपूर्वक निमंत्रण दिया है। वे भी चर्चा में शामिल होने के लिए सहमत हो गए हैं। इसके अलावा हम वंचित आघाड़ी को सीटें देने के लिए तैयार हैं।

अन्य समाचार