मुख्यपृष्ठविश्वआईएमएफ की रहम पर कंगाल पाकिस्तान, बेलआउट पैकेज पर लिया बड़ा फैसला

आईएमएफ की रहम पर कंगाल पाकिस्तान, बेलआउट पैकेज पर लिया बड़ा फैसला

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में महंगाई अपने चरम पर है। इस बीच अंतरराष्ट्रीय मु्द्रा कोष (IMF) ने आर्थिक रूप से बर्बाद पाकिस्तान की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। आईएमएफ ने रुके हुए बेलआउट पैकेज को एक साल तक बढ़ाने और कर्ज का आकार बढ़ाकर 8 अरब डॉलर करने पर सहमति जताई है, जिससे प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के नेतृत्ववाली नई सरकार को राहत मिली है।

सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि पाकिस्तान के नए वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल और आईएमएफ के डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर एंटोनेट सईह के बीच वाशिंगटन में अहम बातचीत के बाद इसे लेकर समझौता हुआ। आईएमएफ ने सहमति जताई की है कि कार्यक्रम को सितंबर 2022 की मूल समाप्ति अवधि के मुकाबले एक और नौ महीने से एक वर्ष तक बढ़ाया जाएगा, जबकि कर्ज का आकार मौजूदा 6 अरब डॉलर से बढ़ाकर 8 अरब डॉलर करने का फैसला लिया गया है।

आईएमएफ टीम के साथ बैठक में वित्त राज्य मंत्री डॉ आयशा गौस पाशा, स्टेट बैंक के निवर्तमान गवर्नर डॉ रेजा बाकिर, वित्त सचिव हामिद याकूब शेख और विश्व बैंक में पाकिस्तान के कार्यकारी निदेशक नवीद कामरान बलूच ने भी भाग लिया। इस्माइल पिछले इमरान खान शासन द्वारा रोके गए 6 बिलियन अमरीकी डालर के बेलआउट पैकेज पर फिर से बातचीत करने के लिए वॉशिंगटन में थे।

बता दें कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ की उस वक्त की सरकार और IMF ने 6 बिलियन अमेरीकी डॉलर के कुल मूल्य के साथ 39 महीने की विस्तारित फंड सुविधा (जुलाई 2019 से सितंबर 2022) पर हस्ताक्षर किए थे। हालांकि, पिछली सरकार अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में विफल रही और यह कार्यक्रम अधिकांश समय तक रुका रहा क्योंकि 3 बिलियन अमरीकी डॉलर का भुगतान नहीं किया गया था। सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के मामले को मंजूरी के लिए आईएमएफ बोर्ड के पास ले जाने से पहले, पाकिस्तान को अगले वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए बजट रणनीति पर सहमत होना होगा।

अन्य समाचार