शहर में

आधुनिकता के इस दौर में अध्यात्म से दूरी
युवाओं का खुलेआम सिगरेट शराब गुटका तंबाकू की क्या है मजबूरी
खौफ हर समय बना हुआ है शहर में
कहां है अफसरों की फौज अब शहर में
वक्त बदलता है जरूर पर इस तरह नहीं
जहां अमन चैन सब कुछ खत्म सा हुआ शहर में,
अब संस्कारों की पैरवी
सभ्यता की वह बात
कल्चर के नाम पर गुमनाम युवाओं को हमें ही जगाना होगा,
क्योंकि कानून व्यवस्था बिगड़ी हुई है शहर में,
खुलेआम कत्ल मारधाड़ मनचलों की फौज भरी पड़ी है शहर में
जागो अब तो जागो साहब
शांति का टापू समन्वय का दीप
आमजन का अमन चैन सब कुछ खत्म क्यों हो गया शहर में।
चोरी लूट अपराध हत्या
यौन शौषण महिला उत्पीड़न
सब कुछ तो हो रहा है शहर में,
अब सामाजिक जिम्मेदारी को निभाते हुए
आगे आ कर शहर को बचना चाहिए
क्योंकि शहर तो हमारा ही है
हम नागरिक हैं इस शहर के
सकारात्मक प्रयास की रोशनी
अब शहर को बचना ही होगा
बहुत कुछ हो गया है शहर में।

-हरिहर सिंह चौहान
इंदौर, मध्य प्रदेश

अन्य समाचार