मुख्यपृष्ठनए समाचारपालघर में एक युवक और उसके परिजनों पर बंधुआ मजदूर बनने का...

पालघर में एक युवक और उसके परिजनों पर बंधुआ मजदूर बनने का दबाव बनाया… मामला दर्ज

– 6,87,500 रुपए के भुगतान के बदले केवल 1.69 लाख रुपए दिए… मांगने पर मारपीट

योगेंद्र सिंह ठाकुर / पालघर

पालघर जिले के आदिवासियों को बंधुआ मजदूर बनाकर उनके साथ दुर्व्यवाहर की घटनाएं रुक नहीं रही हैं। 19 वर्षीय एक युवक और उसके परिजनों पर सोलापुर में कथित तौर पर बंधुआ मजदूरी करने का दबाव बनाया गया और इसके साथ ही उन्हें मजदूरी के पूरे पैसे भी नहीं दिए गए। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी।
पुलिस के अनुसार, मजदूरों के बकाया पैसे मांगने पर युवक का अपहरण कर लिया गया और उसे बंधक बनाकर पीटा गया। इसके तहत रविवार को सोलापुर के करमाला के तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। मनोर पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि व्यक्ति और उसके परिजनों ने अक्टूबर 2022 से इस साल फरवरी तक सोलापुर में एक व्यक्ति के खेत में गन्ने की फसल काटने का काम किया, जिसके बाद उन्हें कुल 6,87,500 रुपए के भुगतान के मुकाबले केवल 1.69 लाख रुपए दिए गए।
खेत के मालिक और दो अन्य व्यक्तियों ने एक नवंबर को बकाया मजदूरी का भुगतान करने के बहाने पीड़ित को पालघर के मनोर इलाके में मस्तान नाके पर बुलाया।
अधिकारी ने बताया कि पीड़ित को आरोपी कथित तौर पर एक कार में बिठाकर ले गए और एक से तीन नवंबर तक उसे खेत के मालिक के घर में बंधक बनाकर रखा। इस दौरान उसे खूब पीटा और उसे जातिसूचक गाली दी। इसके बाद पीड़ित को उसके गांव ले जाकर छोड़ दिया। पुलिस ने पीड़ित की शिकायत के बाद खेत के मालिक और दो अन्य आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323 (जान-बूझकर चोट पहुंचाना), 342 (गलत तरीके से बंधक बनाना), 504 (जान-बूझकर शांति भंग करने का इरादा) और 506 (आपराधिक धमकी) के साथ-साथ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम और बंधुआ श्रम प्रणाली (उन्मूलन) अधिनियम के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया है।

अन्य समाचार