मुख्यपृष्ठनए समाचारयोगी सरकार के 'अपने' घेरे में ! ...भाजयुमो जिलाध्यक्ष पर सरकारी जमीन...

योगी सरकार के ‘अपने’ घेरे में ! …भाजयुमो जिलाध्यक्ष पर सरकारी जमीन कब्जाने पर केस

विक्रम सिंह / सुल्तानपुर
हाइप्रोफाइल चिकित्सक डा. घनश्याम त्रिपाठी हत्याकांड से ‘योगीराज’ की कानून व्यवस्था व प्रशासनिक व्यवस्था का सच तो सामने आ ही रहा है, खुद भाजपाई नेताओं का चेहरा भी उजागर होता दिख रहा है। प्रशासन अब प्रकरण के मुख्य हत्यारोपी व उसके परिवारीजनों पर शिकंजा और कसता जा रहा है। इसी क्रम में पालिका प्रशासन ने गुरुवार को हत्यारोपी के चचेरे भाई भारतीय जनता युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष समेत परिवार के कई लोगों पर सार्वजनिक संपत्ति कब्जाने की एफआईआर दर्ज कराई।

बता दें कि सितंबर के आखिरी सप्ताह में सरकारी अस्पताल के चिकित्सक रहे डा. त्रिपाठी की शहर के नारायनपुर में जघन्य हत्या कर दी गई थी। जिसमें भाजपा के एक बड़े नेता के भतीजे का नाम आरोपी के तौर पर सामने आने के बाद प्रशासन ने परिवारीजनों की अवैध संपत्तियों पर बुलडोज़र चलवा दिया था। इसके बावजूद मुख्य आरोपी पकड़ में नहीं आया। हालांकि मुख्य आरोपी के वृद्ध पिता को अरेस्ट कर पुलिस जेल भेज चुकी है। गुरुवार को इसी क्रम में सार्वजनिक संपत्ति पर अवैध कब्जे के आरोप में पालिका के कर अधीक्षक सैय्यद आब्दी की तहरीर पर पुलिस ने मुख्य आरोपी अजय नरायन, उनके पिता जगदीश नरायन, चचेरे भाई भाजयुमो जिलाध्यक्ष चंदन नरायन सिंह पर एफआईआर दर्ज कर शिकंजा कस दिया।

…पीटी गई मुनादी, जल्द होगी कुर्की
मुख्य आरोपी अजय नरायन वारदात के १२ दिन बाद भी गिरफ्त में नहीं आया है। जबकि उसपर ५०००० रुपये का इनाम भी घोषित हो चुका है। अब पुलिस ने परिवारीजनों पर मुकदमों के साथ-साथ शिकंजा कसने के लिये अदालत से कुर्की के आदेश भी प्राप्त कर लिए हैं। इस क्रम में नगर पुलिस ने नरायनपुर में आरोपी के घर पर कुर्की नोटिस चस्पा की व मुनादी करवाई। उम्मीद है कि जल्द ही अब कुर्की की कार्रवाई भी हो सकती है।

अन्य समाचार