मुख्यपृष्ठनए समाचारपहले अपनी खुद की कुर्सी संभालें अधूरे उपमुख्यमंत्री ... संजय राऊत ने...

पहले अपनी खुद की कुर्सी संभालें अधूरे उपमुख्यमंत्री … संजय राऊत ने फडणवीस पर कसा तंज

सामना संवाददाता / मुंबई
राम मंदिर मुद्दे पर शिवसेना पर टिप्पणी करनेवाले उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता व सांसद संजय राऊत ने जमकर खबर ली। फडणवीस को राम मंदिर संघर्ष का इतिहास समझना चाहिए। जिस तरीके से उनका अपमान करके उन्हें अधूरा उपमुख्यमंत्री बनाया गया है, उस पर वे ध्यान दें। उन्हें पहले खुद की कुर्सी बचानी चाहिए। इस तरह का तंज संजय राऊत ने कसा। वे मीडिया से बोल रहे थे।
राम मंदिर का मुद्दा महाराष्ट्र में अगर शिवसेना को घेरने के लिए किया जा रहा है तो फडणवीस को पिछले ३०-३५ साल के राम मंदिर संघर्ष के इतिहास को समझना चाहिए। वे पहले अपनी कुर्सी संभालें, जिस तरीके से उन्हें अपमानित करके अधूरा उपमुख्यमंत्री बनाया गया है, पहले उस पर ध्यान दें। राज्य में एक फुल और दो डाउटफुल सरकार चल रही है, जो फूल हैं वह भी नहीं रहेंगे। दो डाउटफुल उपमुख्यमंत्री हैं और फडणवीस पूर्ण उपमुख्यमंत्री भी नहीं हैं, उसमें भी भागीदार हैं। उन्होंने इस पर बोसा, ऐसा तंज भी संजय राऊत ने कसा।
राम मंदिर में शिवसेना के योगदान को जानता है दुनिया का हिंदू
राम मंदिर को लेकर शिवसेना का योगदान इस दुनिया का हर हिंदू जानता है। उस समय फडणवीस गुदड़ी में रेंग रहे थे। राम मंदिर पर शिवसेना से क्या सवाल पूछते हो? उनसे सवाल पूछो कि तुम कहां थे? ये कायर भाग गए थे। अयोध्या के मैदान से भागनेवाले लोगों द्वारा शिवसेना के राम मंदिर पर सवाल पूछने की यह संघ की नीति है। संजय राऊत ने यह भी कहा कि अपनी मर्दानगी को छुपाना और दूसरों की वीरता पर उंगली उठाना, यह राम का अपमान है।

ठाकरे परिवार की सुरक्षा केंद्र सरकार की जवाबदारी
शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे का निवासस्थान और लाखों शिवसैनिकों का श्रद्धा स्थान ‘मातोश्री’ के निकट बड़ी साजिश होने का एक गुमनाम फोन महाराष्ट्र कंट्रोल रूम पर आया है। इसके बाद मुंबई पुलिस अलर्ट हो गई है। इस पर शिवसेना नेता व सांसद संजय राऊत ने खरी-खरी सुनाते हुए कहा है कि ठाकरे परिवार की सुरक्षा केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है। सोमवार सुबह मीडिया से बातचीत के दौरान पत्रकारों ने सांसद संजय राऊत से महाराष्ट्र कंट्रोल रूम में आए फोन के बारे में पूछा। इस पर राऊत ने कहा कि ठाकरे परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। महाराष्ट्र की डाउटफुल सरकार की नहीं। यह प्रतिशोध में जल रही सरकार है, इसलिए ठाकरे परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। राऊत ने कहा कि जिस तरह से ठाकरे परिवार और शिवसेना नेताओं से उनकी सुरक्षा छीन ली गई, अगर कल को कुछ भी होता है तो इसकी जिम्मेदारी केंद्र और महाराष्ट्र गृह मंत्रालय की होगी।

अन्य समाचार