मुख्यपृष्ठनए समाचारभारत के सिर पर चढ़ा, १७३ लाख करोड़ का कर्ज! ...सुप्रिया सुले...

भारत के सिर पर चढ़ा, १७३ लाख करोड़ का कर्ज! …सुप्रिया सुले भड़कीं सरकार मांगे माफी

सामना संवाददाता / मुंबई
२०१४ की तुलना में देश पर यह कर्ज दोगुना हो गया है। इसलिए सरकार अच्छे दिन का वादा पूरा नहीं करने के लिए जनता से माफी मांगे, ऐसे शब्दों में राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने केंद्र सरकार पर नाराजगी व्यक्त की है। देश के सिर पर कर्ज का बोझ बढ़ गया है, ऐसी जानकारी सांसद सुप्रिया सुले ने सोशल मीडिया एक्स पर पोस्ट करके दी। राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि ढोंग कितना भी छिपाया जाए, लेकिन वह कभी भी छिप नहीं सकता है। आर्थिक स्थिति को लेकर भाजपा सरकार कितना भी चिल्लाए, लेकिन सच्चाई सामने आए बिना नहीं रहेगी, ऐसी टिप्पणी सुप्रिया सुले ने की।
भारत की अर्थव्यवस्था की है यह स्थिति
वर्ष २०१४ में भारत के सिर पर ५५ लाख करोड़ रुपए का कर्ज था, लेकिन २०२३ के अंत तक ये आंकड़ा दोगुना से भी ज्यादा १७३ लाख करोड़ हो गया। २०१४ में भाजपा ने देश पर कर्ज को चुनावी मुद्दा बनाया था। उन्होंने इस कर्ज को चुकाने और अच्छे दिन लाने का वादा किया था। अब भाजपा को १७३ लाख करोड़ रुपए के इस कर्ज के बारे में खुलासा करना चाहिए। इसके साथ ही उन्हें यह स्वीकार करना चाहिए कि वह देश से किए गए अपने वादे को पूरा नहीं कर पाए। इसके लिए देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए।

अन्य समाचार