" /> भारत गंदा है!… अपनी नाकामी छिपाने के लिए ट्रंप ने मढ़ा दोष?

भारत गंदा है!… अपनी नाकामी छिपाने के लिए ट्रंप ने मढ़ा दोष?

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन, भारत और रूस पर ‘प्रदूषित वायु’ से निपटने के लिए उचित कदम न उठाने का आरोप लगाते हुए पेरिस जलवायु समझौते से हटने के अमेरिका के कदम को सही ठहराया। नाश्विले के बेलमॉन्ट विश्वविद्यालय में राष्ट्रपति पद के चुनाव की अंतिम आधिकारिक बहस (प्रेसिडेंशियल डिबेट) के दौरान ट्रंप ने कहा कि चीन को देखिए, कितना गंदा है। रूस को देखिए, भारत को देखिए, वे बहुत गंदे हैं। हवा बहुत गंदी है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे यहां सबसे स्वच्छ हवा, सबसे साफ पानी और कार्बन उत्सर्जन में सबसे कम संख्या है। बता दें कि अमेरिका में तीन नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव है।
डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के साथ करीब ९० मिनट चली बहस के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन के सवाल पर कहा कि इस प्रशासन के अधीन ३५ वर्षों की तुलना में उत्सर्जन की स्थिति सबसे बेहतर है। हम उद्योग के साथ अच्छी तरह से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पेरिस समझौते से मैंने इसलिए अलग किया, क्योंकि हमें खरबों डॉलर खर्च करने थे और हमारे साथ भेदभावपूर्ण व्यवहार हो रहा था। डोनाल्ड ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन पर पर्याप्त कदम नहीं उठाने के लिए भारत और चीन जैसे देशों पर बार-बार आरोप लगाया है और कहा है कि इन देशों में हवा में सांस लेना नामुमकिन है। ट्रंप ने २०१७ में अमेरिका को २०१५ पेरिस जलवायु समझौते से खुद को अलग कर लिया था, वहीं बाइडेन ने कहा कि उनके सत्ता में आने पर वह एक बार फिर अमेरिका को इस ऐतिहासिक पेरिस समझौते का हिस्सा बनाएंगे और प्रदूषण के लिए चीन की जवाबदेही तय करेंगे। दूसरी ओर ट्रंप ने लगातार इस बात पर जोर दिया कि चीन और भारत जैसे देशों को ही पेरिस समझौते से फायदा पहुंच रहा है। उन्होंने वैश्विक स्तर पर वायु प्रदूषण के लिए इन देशों को ही सबसे अधिक जिम्मेदार हैं। राष्ट्रपति ने आरोप लगाया कि पर्यावरण और ओजोन की बात करें तो हमारी स्थिति काफी बेहतर है। वहीं चीन, रूस, भारत ये सभी देश वायु को दूषित कर रहे हैं।गौरतलब है कि चीन दुनिया का सबसे बड़ा कार्बन उत्सर्जक है। इसके बाद दूसरे नंबर अमेरिका और फिर इस सूची में भारत और यूरोपीय संघ क्रमश: तीसरे तथा चौथे नंबर पर है।

क्या हमारे नेता मुंहतोड़ जवाब देंगे?…ट्रंप के बयान पर लिसप्रिया का सवाल
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ‘भारत गंदा है, वहां की हवा गंदी है’ बयान पर ९ वर्षीय पर्यावरण कार्यकर्ता लिसप्रिया कंगुजम ने कहा है कि क्या हमारे नेता मुंहतोड़ जवाब देंगे? या उनके शब्दों को हम स्वीकार करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर ट्रंप दिल्ली के वायु प्रदूषण की बात करते हैं तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अब तक इस पर कुछ क्यों नहीं बोला?