मुख्यपृष्ठस्तंभभारत के हुए चंदा मामा, लहराया तिरंगा!

भारत के हुए चंदा मामा, लहराया तिरंगा!

प्रभुनाथ शुक्ल भदोही, (उप्र)
भारत के चंद्रयान मिशन पर पूरी दुनिया की निगाहें टिकी थीं। आखिरकार हमारे वैज्ञानिकों ने अथक प्रयास के बाद चांद पर तिरंगा लहरा दिया। क्योंकि रूस के लूना-२५ की असफलता के बाद दुनिया सकते में थी। चंद्रयान मिशन की सफलता के लिए पूरा देश एक साथ खड़ा था। यह भारत के लिए गर्व का विषय है। चंद्रयान-३ को सफलतापूर्वक चांद पर उतार कर भारत ने दुनिया को के सामने अपनी अंतरिक्ष क्षमता का लोहा मनवा लिया है। हमारे अंतरिक्ष वैज्ञानिक रात-दिन लगे हुए थे। भारत की सफलता को देखने के लिए पूरी दुनिया टकटकी लगाए देख रही थी। पूरे देश में एक उत्सव का माहौल रहा। इसरो की तरफ से चंद्रयान की लैंडिंग का सीधा प्रसारण किए जाने से देश में एक अलग तरह का माहौल था।
इसरो के कंट्रोल सेंटर से सीधा लाइव प्रसारण किया जा रहा था। भारत और पूरी दुनिया के लिए यह बेहद अद्भुत और आनंददायक रहा। भारत दुनिया का पहला ऐसा देश है, जो दक्षिणी ध्रुव के करीब चंद्रयान- ३ की लैंडिंग कराने में कामयाब रहा है। इस सफलता के बाद दुनिया भर को चांद के और अत्यधिक रहस्य जानने में सहयोग मिलेगा। चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास जहां यह उतरा वह इलाका बेहद ठंडा है। वहां का तापमान २३० डिग्री सेल्सियस माइनस तक पहुंच जाता है। चंद्रताल का एक दिन धरती के १४ दिन के बराबर है। भारतीय वैज्ञानिकों ने चार साल तक अथक प्रयास के बाद चंद्रयान-२ की गलतियों से सीख लेकर उसकी खामियों को दूर किया।
अंतरिक्ष विज्ञान में भारत एक महाशक्ति के रूप में उभर रहा है। अंतरिक्ष की दुनिया में सबसे कम खर्च में हमारे वैज्ञानिकों ने बुलंदी पर परचम लहराया है। हम चांद फतह करने में कामयाब हुए हैं। इसरो ने १४ जुलाई को श्रीहरि कोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से चंद्रयान-३ का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया था। यह हमारे अंतरिक्ष कार्यक्रम का सबसे बड़ा भरोसा है। बंगलुरु से सीधा प्रसारण देखकर पूरा देश इस अद्भुत क्षण का गवाह बना। यान ने अपनी ६,००० किलोमीटर प्रति घंटे की गति को अंतिम क्षणों में १० किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक कम किया। इस मिशन को लेकर विद्यार्थियों में बेहद उत्साह देखा गया और सीधे प्रसारण के लिए व्यवस्था की गई थी।
इससे पहले चंद्रमा हमारे लिए किस्से-कहानियों में ही होता था। दादी और नानी कि कहानियों में उसके बारे में जानकारी मिलती थी। लेकिन आज वैज्ञानिक शोध और तकनीकी विकास की वजह से हम चांद को जीतने में लगे हैं। चंद्रलोक के बारे में वैज्ञानिक जमीनी पड़ताल कर रहे हैं। चंद्रलोक की बहुत सारी जानकारी हमारे पास उपलब्ध है। दुनिया के लिए चांद अब रहस्य नहीं है। अब वहां मानव जीवन बसाने के लिए भी रिसर्च किए जा रहे हैं। वैज्ञानिक शोध से यह साबित हो गया है कि चांद पर जीवन बसाना आसान है।
मिशन की सफलता में हमारे वैज्ञानिक जुटे हुए थे। चार साल के अथक प्रयास के बाद उन्हें यह कामयाबी मिली है। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के अनुसार इस मिशन में करीब ६१५ करोड़ रुपए का खर्च आया है। चंद्रयान-२ मिशन पर ९७८ करोड़ रुपए का खर्च आया था। लेकिन अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के भरपूर प्रयास के बावजूद भी मिशन फेल हो गया था। अभियान के अंतिम क्षणों में विक्रम लैंडर में दिक्कत होने से झटका लगा था। लेकिन हमारे अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के प्रयास से चंद्रयान-३ पूरी तरह सफल रहा। यह हमारे लिए गर्व की बात है। पूरे भारत के लिए यह गर्व का विषय है।
(लेखक वरिष्ठ पत्रकार, लेखक और समीक्षक हैं।)

अन्य समाचार