मुख्यपृष्ठअपराधअंतर्वेग : मौत के डर ने बनाया कातिल!

अंतर्वेग : मौत के डर ने बनाया कातिल!

डर एक बड़ी चीज है। डर, दहशत, बेचैनी व्यक्ति को कातिल भी बना सकती है, इसका एक ताजा उदाहरण हाल ही में अमेरिका के इंडियाना में देखने को मिला, जहां एक व्यक्ति ने भारतीय मूल के छात्र की चाकू मारकर हत्या कर दी। इस हत्या की पीछे की वजह भी अजीब है। कहा जा रहा है कि आरोपी को यह डर सता रहा था कि भारतीय मूल का युवक उसे मार देगा। मृतक की पहचान वरुण के रूप में हुई है। आरोपी ने प्लेनेट फिटनेस के मसाज रूम में शख्स के सिर पर चाकू मारा और दावा किया कि किसी ने उसे बताया था कि २४ वर्षीय वरुण उसे धमकी देने वाला है और डर था कि वरुण उसकी हत्या कर देगा। आरोपी की पहचान जॉर्डन एंड्रेड के रूप में हुई है। मिली जानकारी के अनुसार, एंड्रेड ने पुलिस को बताया कि उसने अपनी रक्षा के लिए वरुण को मौत के घाट उतारा। जब पुलिस ने उससे पूछा कि उसने वरुण को कहां चाकू मारा, तो एंड्रेड ने कहा, ‘मैंने अभी-अभी यह किया है। मैं यह कहना भी नहीं चाहता।’ बता दें कि चोट की गंभीरता के कारण वरुण को फोर्ट वेन अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बता दें कि बीते रविवार सुबह ९ बजे के आसपास वरुण पर हमला किया और मसाज कुर्सी पर बैठा दिया था। पुलिस ने कहा कि उन्हें काउंटर पर काफी मात्रा में खून और एक फोल्डिंग चाकू मिला। फोल्डिंग चाकू एंड्रेड का था, जिससे वह मेनार्ड्स स्टोर में बक्से खोलता था। एंड्रेड ने कहा कि उसने दूसरे आदमी के खिलाफ रक्षात्मक कार्रवाई की और चाकू का इस्तेमाल किया। हालांकि, अन्य जिम जाने वालों ने वरुण को शांत स्वभाव का व्यक्ति बताया। लोगों ने कहा कि वह केवल अपने से मतलब रखता था।
सनकी सैंया!
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भले ही यह दम भरते हों कि `यूपी में अपराध कम हैं’ लेकिन आए दिन सामने आनेवाली घटनाएं तो उन्हीं की बातों को झूठा ठहरा रही हैं। ऐसी ही एक चौंकानेवाली घटना सामने आई है, जहां महिला टीचर के बॉयप्रâेंड ने छात्र कुशाग्र को मार डाला। उसे यह डर था कि उस छात्र का महिला टीचर के साथ अफेयर था। प्यार में अड़चन बनता देख आरोपी ने अपनी गर्लप्रâेंड और दोस्त की मदद से उसकी हत्या कर दी। मामला यूपी के कानपुर का है। पुलिस ने हत्या के मामले में मुख्य आरोपी मंगल (बदला नाम) को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार, कानपुर के कपड़ा व्यापारी मनीष कनोडिया के बेटे कुशाग्र कनोडिया की हत्या के मुख्य आरोपी ने बताया कि उसका अफेयर कल्पना (महिला टीचर) से चल रहा है। कल्पना बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती है। २ साल पहले कुशाग्र उससे ट्यूशन पढ़ता था। उसके बाद कुशाग्र ने उससे ट्यूशन पढ़ना छोड़ दिया। ट्यूशन छोड़ने के बाद भी दोनों एक-दूसरे से मिलते रहते थे। प्रभात का कहना है उसे दोनों के बीच अफेयर होने का शक था। यह बात उसे बर्दाश्त नहीं हो रही थी। वह कुशाग्र को अपने प्यार के बीच से हटाने के लिए प्लान बनाने लगा और एक दिन मौका पाकर बहाने से उसे बुलाकर रस्सी से गला दबाकर उसकी हत्या कर दी।

अन्य समाचार