मुख्यपृष्ठनए समाचार‘उपमुख्यमंत्री को बोलने की अनुमति नहीं देना महाराष्ट्र का अपमान!’: सुप्रिया सुले

‘उपमुख्यमंत्री को बोलने की अनुमति नहीं देना महाराष्ट्र का अपमान!’: सुप्रिया सुले

सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार को पुणे के देहू में एक मंदिर उद्घाटन समारोह के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में बोलने की अनुमति नहीं दी गई। इस बात को लेकर राज्य की जनता सहित राकांपा नेताओं में आक्रोश व्याप्त है। राकांपा नेता और सांसद सुप्रिया सुले ने इसे राज्य का अपमान करार दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने कार्यक्रम को संबोधित किया लेकिन अजीत पवार को बोलने की अनुमति नहीं दी गई। सुले ने अमरावती में संवाददाताओं से कहा कि अजीत पवार के कार्यालय ने प्रधानमंत्री कार्यालय से अनुरोध किया था कि उन्हें कार्यक्रम में बोलने की अनुमति दी जाए क्योंकि वे उपमुख्यमंत्री होने के साथ ही जिला पालकमंत्री भी हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय ने इसे मंजूरी नहीं दी। सांसद ने कहा कि यह बहुत ही गंभीर, दर्दनाक, चौंकानेवाला विषय है। यह महाराष्ट्र का अपमान है। इसके अलावा राकांपा प्रवक्ता महेश तपासे सहित अन्य राकांपा नेताओं ने भी मंदिर के उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री मोदी की उपस्थिति में अजीत पवार को न बोलने देने को महाराष्ट्र का अपमान करार दिया है।

अन्य समाचार