मुख्यपृष्ठस्तंभअंतर्वेग: माया की मौत और मातम!

अंतर्वेग: माया की मौत और मातम!

जितेंद्र मल्लाह

आए दिन घटते सनसनीखेज अपराधों के कारण देश की राजधानी दिल्ली क्राइम कैपिटल के उपनाम से भी कुख्यात हो चुकी है। वैसे तो यहां कई गिरोह पहले से ही सक्रिय हैं, लेकिन इन दिनों एक नए गैंगस्टर का खौफ तेजी से बढ़ रहा है। महज सवा महीने पहले (१८ जुलाई) बालिग हुए मोहम्मद समीर नामक इस अपराधी ने अमेजन के सीनियर मैनेजर हरप्रीत गिल की हत्या करके पूरे देश को दहला दिया। संकरी गली में रास्ता देने को लेकर हुई बहस के दौरान कुख्यात समीर ने हरप्रीत गिल को गोली मारी थी। मासूम दिखनेवाले इस युवक का यह कोई पहला अपराध नहीं है, इससे पहले भी यह ४ कत्ल कर चुका है। दिल्ली के भजनपुरा इलाके में मोहम्मद समीर का `माया गैंग’ काफी कुख्यात हो चुका है और माया गैंग का किंग यानी मोहम्मद समीर की देश का सबसे बड़ा माफिया बनने की इच्छा उसके इंस्टा अकाउंट पर साफ झलकती है। इंस्टाग्राम पर प्रोफाइल में `नाम बदनाम, पता कब्रिस्तान, उम्र जीना, शौक मरने का’ का लिखनेवाले मोहम्मद समीर के दुस्साहस का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि हरप्रीत गिल और उनके मामा को गोली मारने के कुछ ही घंटे बाद पोस्ट शेयर करके कहा कि दो को निपटा दिया है। पुलिस के साहस को खुली चुनौती देते हुए सरगना के इंस्टाग्राम पर कई ऐसे वीडियो हैं, जिसमें वह छत, गली और खिड़की से अंधाधुंध गोलियां चलाता हुआ नजर आ रहा है। समीर के माता-पिता की मौत हो गई है। १५ वर्ष की उम्र में उसने जुर्म की दुनिया में कदम रखा। बताया जाता है कि मुंबई के कुख्यात गैंगस्टर माया डोलस के बहुचर्चित एनकाउंटर पर बनी फिल्म `शूटआउट एट लोखंडवाला’ में माया के किरदार से प्रभावित होकर समीर ने `माया’ नाम से नाबालिगों का एक गिरोह बनाया, जिसका `किंग’ वह खुद है। फिलहाल, पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

बेवफाई करंट मार गई!
वैवाहिक रिश्तों में बढ़ती बेवफाई अब करंट मारने लगी है। ऐसा ही एक मामला कांकेर के गोंडाहुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम हानफरसी का है, जहां हीरालाल की बाड़ी में ११ अगस्त को ३० वर्षीय नवरदीप पांडे का शव मिला था। जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि नवरदीप ९ अगस्त की रात से घर से गायब था। इस मामले में अब पता चला है कि नवरदीप की हत्या उसकी विवाहित प्रेमिका ने अपने देवरों के साथ मिलकर की थी। आरोपी का पति केरल में रहता है। चोरी-छिपे नवरदीप उसके घर जाया करता था। ९ अगस्त की रात उसकी प्रेमिका के परिजनों ने दोनों को रंगे हाथ आपत्तिजनक अवस्था में पकड़ लिया। खुद को बचाने के लिए उसकी विवाहित प्रेमिका माफी मांग कर देवरों के साथ मिल गई और पूरा परिवार नवरदीप को डंडे, ईंट आदि से मारने लगा। उन्होंने नवरदीप को करंट भी लगाया, जिसके परिणामस्वरूप नवरदीप की मौत हो गई थी। इसी तरह का एक अन्य मामला उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले से सामने आया है, जहां अपनी पत्नी को उसके ३० वर्षीय प्रेमी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखकर सनके ३८ वर्षीय पति ने पहले दोनों को अलग-अलग कमरों में बंद कर दिया। बाद में बिजली के झटके देने से अचेत हुई पत्नी को उसने डंडे से बुरी तरह पीटा, जिससे पत्नी की मौत हो गई, जबकि इस दौरान उसका प्रेमी भागने में सफल हुआ।

अन्य समाचार

लालमलाल!