मुख्यपृष्ठस्तंभअंतर्वेग : यूपी से कैपटाउन तक मनचलों की हैवानियत!

अंतर्वेग : यूपी से कैपटाउन तक मनचलों की हैवानियत!

जितेंद्र मल्लाह

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ उनकी भारतीय जनता पार्टी और भक्त सूबे में कानून-व्यवस्था के उत्तम होने का ढोल पीटते हैं लेकिन यूपी में हकीकत ये है कि यूपी में हालात लगातार बिगड़ रहे हैं। खासकर, महिलाओं की सुरक्षा के मामले में हालात सोचनीय होते जा रहे हैं। शोहदई करनेवालों को सीएम योगी भले ही अगले चौक पर मौत से मुलाकात होने यानी एनकाउंटर की चेतावनी देते हैं लेकिन मनचले मानने को तैयार ही नहीं हैं। उनके डर से छात्राएं पढ़ाई छोड़ रही हैं। योगी के यूपी से ही ताजा मामला सामने आया है, जिसमें कॉलेज के बाहर पहले से मौजूद मनचले युवक ने हाईस्कूल की छात्रा को जबरन अपने मोबाइल नंबर की पर्ची थमाने की कोशिश की, विरोध करने पर उसे साइकिल से गिराकर छात्रा को सरेराह पीटा। इतना ही नहीं उक्त मनचले ने छात्रा की मदद को आगे आई उसकी सहेली को भी पीटा और वहां से भागते समय दोनों को बाद में देख लेने की धमकी दी। कोहंडौर से मदाफरपुर रोड पर स्थित एक गांव की छात्रा सीएचसी के पास स्थित इंटर कॉलेज में दसवीं में पढ़ती है।
प्रयागराज-अयोध्या हाइवे से कॉलेज पहुंचते ही वहां पहले से मौजूद मनचले युवक ने उक्त हरकत की। पुलिस अब आरोपित को चिह्नित करने के लिए कॉलेज के आसपास और बाजार में लगे सीसीटीवी के फुटेज चेक करने में जुट गई है। दुर्भाग्य की बात यह है कि इस तरह की समस्या पूरी दुनिया में गंभीर रूप से बढ़ रही है। दक्षिण अफ्रीका के कैपटाउन में इसी तरह के एक अन्य मामले में अपनी सहेली से मिलने आई युवती को देखकर एक मनचले ने पहले सीटी बजाई। युवती ने उसकी ओर ध्यान नहीं दिया तो उक्त मनचला युवती की ओर देख कर आपत्तिजनक कमेंट करने लगा। युवती ने उसका विरोध किया तो मनचलों ने उस पर रॉड से हमला कर दिया, हमले में घायल युवती की एक आंख खराब हो गई। उसके सिर में काफी चोट लगने से उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है।
फेक वीडियो का खौफ!
स्मार्ट फोन, इंटरनेट और एआई यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के आधुनिक युग में लोगों की प्राइवेसी पूरी तरह से खतरे में पड़ने लगी है। असली हो न हो, असली लगनेवाले नकली वीडियो वायरल करके लोगों से वसूली और बदनाम करने के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। पंजाब के जालंधर से ऐसा ही एक अश्लील वीडियो कांड सामने आया है। यहां एक पिज्जा शॉप चलाने वाले कपल ने प्राइवेट वीडियो वायरल होने पर पुलिस से शिकायत की थी। कपल ने दावा किया है कि एडिट करके बनाया गया उनका फेक वीडियो वायरल करके उन्हें ब्लैकमेल किया जा रहा है।
उनसे २० हजार रुपयों की मांग की जा रही है। पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि उक्त कपल के इंस्टाग्राम पर चार वीडियो वायरल किए गए थे। पुलिस ने इस मामले में एक लड़की को जांच के बाद गिरफ्तार किया, जो कि पहले उसी पिज्जा शॉप पर काम करती थी। पुलिस का कहना है कि नौकरी से निकाले जाने के कारण आरोपी लड़की ने बदले की भावना से वीडियो वायरल किया था। इसके लिए आरोपी युवती ने इंस्टाग्राम पर फर्जी नाम से अकाउंट बनाया था।

अन्य समाचार