मुख्यपृष्ठअपराधअंतर्वेग : हाय रे, हवस की आग!

अंतर्वेग : हाय रे, हवस की आग!

जितेंद्र मल्लाह

बढ़ते विवाहेत्तर संबंध अब सभ्य समाज की पारिवारिक व्यवस्था के लिए नासूर साबित होने लगे हैं। हवस की आग लोगों को हैवान बना रही है। जिस्मानी जरूरतों को पूरा करने के लिए लोग अपने रिश्तों खासकर, जीवनसाथी का कत्ल करने में भी संकोच नहीं कर रहे हैं। यूपी के शाहजहांपुर से एक ऐसा ही सनसनीखेज मामला सामने आया है। एक २५ वर्षीय महिला को पुलिस ने उसी के पति की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है। महिला ने उक्त निंदनीय कृत्य को अपने प्रेमी की मदद से अंजाम दिया, वो भी अपने बेटे के जन्मदिन पर। आरोपी महिला ने पुलिस को बताया कि उसने बुधवार रात बेटे के बर्थडे पर प्रेमी संग मिलकर हैंडपंप के हैंडल से हमला कर पति की हत्या की थी। बकौल महिला, पति को प्रेमी के बारे में पता चल गया था। नाजायज संबंधों का ही एक अन्य मामला यूपी के मेरठ जिले से सामने आया है, जहां एक सेवानिवृत्त फौजी अपने ही बेटे का दुश्मन बन गया। उसने पांच लाख रुपए की सुपारी देकर अपने २७ वर्षीय इकलौते बेटे का कत्ल करा दिया। मामला मेरठ के सरधना क्षेत्र का बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, एक सेवानिवृत्त फौजी संजीव का उसी की एक रिश्तेदार महिला के साथ नाजायज संबंध था, जिसकी वजह से फौजी की पत्नी अपने बेटे के साथ अलग रहने लगी थी। लेकिन पिता का दूसरी महिला से संबंध होने की बात बेटे को आक्रोशित कर रही थी। कुछ दिन पहले बाप-बेटे में झगड़ा होने के बाद पिता ने गांव के एक युवक को अपने बेटे को मारने की सुपारी दे दी। उसने धोखे से फौजी के बेटे को बुलाया और शराब पिलाने के बाद पहले र्इंट से उसके सिर पर वार किया और फिर अंगौछे से गला घोंटकर शव को हिंडन नदी में बहा दिया। फौजी की पत्नी द्वारा बेटे की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद मामले का खुलासा हुआ।
वीडियो गेम के लिए खूनी खेल
वीडियो गेम बच्चों को हिंसक बना रहा है, ऐसे आरोप लगते रहे हैं। इन्हीं आरोपों की पुष्टि करनेवाला मामला पश्चिम बंगाल के नादिया जिले से सामने आया है। कृष्णानगर के घुरनी क्षेत्र निवासी दसवीं कक्षा में पढ़नेवाले कुछ छात्र वीडियो गेम खेलने के लिए कंप्यूटर खरीदना चाहते थे। पैसों के जुगाड़ के लिए उन्होंने ८वीं कक्षा में पढ़नेवाले अपने एक मित्र को अगवा कर लिया। बताया जा रहा है कि पीड़ित छात्र घर से कुछ सामान खरीदने के लिए निकला था लेकिन वापस नहीं लौटा। लोगों के घर में चौका-बरतन करनेवाली उसकी बेवा मां ने उसे काफी ढूंढ़ा लेकिन उन्हें बड़ा झटका तब आया, जब उन्हें बेटे के अपहरण होने के जानकारी मिली और रिहाई के बदले तीन लाख रुपए मांगे गए। पीड़ित मां पैसे देने में असमर्थ थी। लिहाजा, उसने पुलिस से मदद मांगी। जांच के बाद पुलिस ने संदेह के आधार पर तीन किशोरों को हिरासत में लिया तो हत्या की सनसनीखेज वारदात का खुलासा हुआ। बताया जा रहा है कि फिरौती नहीं मिलने पर आरोपियों ने बीते २५ अगस्त को किशोर की गला घोंटकर हत्या कर दी। आरोपियों ने बताया कि उन्होंने किशोर की हत्या करने से पहले उसकी अंतिम इच्छा भी पूरी की। रसगुल्ला खिलाने के बाद उसे कोल्ड ड्रिंक भी पिलाई। इसके बाद उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद तीनों ने शव को एक बोरे में भरकर शहर के बाहरी इलाके में स्थित एक तालाब में फेंक दिया। पुलिस ने तालाब से शव बरामद कर लिया है।

अन्य समाचार