मुख्यपृष्ठअपराधतहकीकात : सास के घर खिचड़ी खाने के चक्कर में नशीले पदार्थ...

तहकीकात : सास के घर खिचड़ी खाने के चक्कर में नशीले पदार्थ की सौदागर बन गई बहू!

जय सिंह 
आम तौर पर सास और बहू में कभी नहीं जमती है, बल्कि हमेशा ठनी ही रहती है। लेकिन मुंबई के उपनगर अंधेरी में एक बहू ने जैसे ही अपनी सास के हाथ की बनी खिचड़ी खाने की मंसा जाहिर की उस पर बङ्का फट पड़ा और बहू बन गई नशीले पदार्थों की सौदागर। इस घटना पर रोशनी डालती आज की तहकीकात…
शादी कर फंसी बहू 
पिछले कई सालों से देशी शराब और फिर अन्य नशीला पदार्थ बेचने वाली एक महिला अपने परिवार के साथ अंधेरी पूर्व धोबीघाट में रहती थी। पहले यह लोग देशी शराब का धंधा करते थे, उसके बाद गांजा बेचने लगे थे। स्थानीय पुलिस की शह पर कई सालों से अंधेरी का यह इलाका नशे की लत की सामाग्री उपलब्ध कराने का अड्डा माना जाता है। यहां हाल ही में एक युवती का विवाह ऐसे युवक से हुआ था जिसकी मां नशे का व्यापार करनेवाले लोगों की मुखिया थी। जब इस बात का पता बहू को चला तो वह अपने पति के साथ किराए का घर लेकर दूसरी जगह रहने लगी।
खिचड़ी खाने के चक्कर में हुई गिरफ्तार 
एक दिन बहू अपने पति के साथ अपने सास के घर आई। जिसके बाद बहू ने अपनी सास से खिचड़ी खाने की इच्छा जाहिर की। अब इसे संयोग कहें या कुछ और जिस समय खिचड़ी बन रही थी ठीक उसी समय पुलिस उपायुक्त की स्पेशल टीम ने अंधेरी में छापा मारा और २२ किलो नशीला पदार्थ बरामद किया। ड्रग बेचने के मामले में पुलिस ने बरखा इंद्रेकर, विजय रमेश, सारिका इंद्रेकर और रागिनी सागर नाम के आरोपियों को गिरफ्तार किया। वहीं मौके से गौरी नवलेकर जो इस नशे की दुनिया की मुखिया थी, भागने में सफल रही। हालांकि, पुलिस की टीम ने उसे बाद में हिरासत में ले लिया। बता दें कि गौरी नवलेकर की बहू रागिनी सागर नवलेकर ही वह बहू है जो खिचड़ी के चक्कर में इस मामले में फंस गई। इस मामले में पुलिस ने रागिनी नवलेकर को भी ड्रग तस्कर बताकर गिरफ्तार किया। इसी परिवार से जुड़े अन्य सूत्रों की मानें तो पुलिस को गौरी के घर से भी काफी मात्रा में नशीला पदार्थ बरामद हुआ था। २५ सितंबर को इस मामले की सुनवाई करते हुए सेशन कोर्ट के न्यायधीश ने मामले की सुनवाई के लिए २७ तारीख मुकर्रर की है। जबकि इस मामले की जांच अंधेरी पुलिस कर रही है।

अन्य समाचार