मुख्यपृष्ठअपराधतहकीकात : प्रेम विवाह का विरोध करने पर दादी की हत्या ......

तहकीकात : प्रेम विवाह का विरोध करने पर दादी की हत्या … पापी बना पोता!

सोशल मीडिया और मोबाइल नंबर से लगा हत्यारे पोते का सुराग
नागमणि पांडेय

हत्या किए जाने की कई घटनाएं आपने सुनी होंगी। कोई बदला लेने के लिए हत्या करता है तो कोई संपत्ति विवाद में हत्या करता है, लेकिन अगर दूसरे प्रेम विवाह का विरोध करने पर दादी की हत्या किए जाने का मामला आप शायद ही सुने होंगे। बता दें कि मुंबई के अंधेरी में एक पोते ने ही अपनी दादी की हत्या कर शव को छोड़ कर फरार हो गया था, ताकि किसी को सक न हो सके। हालांकि, वो ये भूल गया कि अपराधी कितना भी शातिर क्यों न हो कोई न कोई सुराग छोड़ जाता है। मुंबई क्राइम ब्रांच ने घटना के सात साल बाद सोशल मीडिया और मोबाइल नंबर के आधार पर उस हत्या का राज खोलते हुए नाती को कल्याण के नांदिवाली से गिरफ्तार कर सलाखों तक पहुंचा दिया है।
बता दें कि अंधेरी-पूर्व स्थित केबीएस कंपाउंड के गणपति चाल में १६ जून २०१४ को शशिकला का शव सड़ी हुई हालात में पवई पुलिस को मिला था। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला की हत्या गला दबाकर किए जाने का खुलासा हुआ था, लेकिन कोई सुराग नहीं मिलने से पुलिस आरोपी तक नहीं पहुंच पा रही थी। इस हत्या के मामले में पुलिस के पास कोई सुराग नहीं था। ऐसे में मुंबई क्राइम ब्रांच यूनिट १० के तत्कालीन प्रभारी पुलिस निरीक्षक महेश कुमार ठाकुर के मार्गदर्शन में तत्कालीन एपीआई धनराज चौधरी, गणेश तोड़कर, हवलदार धारकर, शेटे आदि की टीम बनाकर सात साल बाद अब जांच शुरू की। जांच के दौरान परिवार वालों और आस-पास के लोगों से संपर्क किया गया। लोगों ने बताया कि हत्या के कुछ दिन बाद से ही पोता गायब है, किसी के संपर्क में नहीं है। यहां तक कि पत्नी और रिश्तेदारों के भी संपर्क में नहीं है।
सोशल मीडिया से लगा सुराग
पुलिस सबसे पहले पोते के सोशल मीडिया अकाउंट की जांच की, जिसमें वह कई वर्षों से एक्टिव नहीं था, लेकिन अचानक कुछ दिन पहले अपने एक रिश्तेदार से सोशल मीडिया के माध्यम से संपर्क किया था। पुलिस इसी सोशल मीडिया से उसकी पहचान की। इसके साथ ही पुलिस को उसका लोकेशन मिल गया कि वह कल्याण में रह रहा है।

ग्राहक बनकर किया ट्रेस
पुलिस ने ग्राहक बनकर कल्याण के हर क्षेत्र में घुसकर सबसे पहले उसके बारे में पूरी जानकारी निकाली। पुलिस को जानकारी मिली कि वह पेंटिंग का काम करता है। यहीं से उसका नंबर भी मिला, लेकिन आरोपी अनजान नंबर नहीं उठाता था। इसके लिए पुलिस ग्राहक बनकर उसे दूसरे के माध्यम से पेंटिंग के लिए बुलाया। उसके आते ही पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। उसने पूछताछ में बताया कि दादी उसे दूसरा प्रेम विवाह करने पर विरोध कर रही थी। विवाह के बाद पत्नी को भड़का रही थी। इसी के कारण गुस्से में आकर हत्या को अंजाम दिया। अब आरोपी सलाखों के पीछे है। पुलिस की तरफ से चार्जशीट दाखिल कर दी गई है। जल्द ही कोर्ट इस पर अपना पैâसला सुनाने वाला है।

अन्य समाचार