मुख्यपृष्ठसमाचारआईक्यू का `यश'! ११ साल के छात्र को मिलेगा ९वीं कक्षा में...

आईक्यू का `यश’! ११ साल के छात्र को मिलेगा ९वीं कक्षा में प्रवेश

`होनहार बिरवान के होत चीकने पात।’ यह कहावत एक ११ साल बच्चे पर एकदम सटीक बैठती है। उम्र और बुद्धिमत्ता में हमेशा कोई संबंध हो, यह जरूरी नहीं। कानपुर का यश ऐसे अपवादों में से एक है। मनोवैज्ञानिकों की जांच में ११ साल के यशवर्धन सिंह `यश’ का आईक्यू स्तर उम्र से ज्यादा पाया गया है। इस रिपोर्ट के आधार पर परिजनों ने सातवीं कक्षा में पढ़ रहे यश को सीधे नौवीं में प्रवेश देने की मांग की है। इस पर अंतिम निर्णय अब शिक्षा निदेशक को लेना है। यश रघुकुल विद्यालय, कृष्णानगर में कक्षा सात का छात्र है। वह जब कक्षा चार में था, तभी से आईएएस और पीसीएस की तैयारी करानेवाले एक कोचिंग संस्थान में नि:शुल्क पढ़ाने लगा और आज भी यह सिलसिला जारी है। इसके अलावा उसका अपना यूट्यूब चैनल भी है। यश के पिता डॉ. अंशुमन सिंह बेटे की अच्छे आईक्यू के कारण उसे सीधे कक्षा नौ में दाखिला दिलाना चाहते हैं। पहले स्थानीय स्तर पर उन्होंने प्रयास किया, लेकिन नियमों के कारण ऐसा नहीं हो सका। फिर उन्होंने शिक्षा निदेशक को आवेदन दिया। उन्होंने जिला विद्यालय निरीक्षक को पत्र भेजकर उसका आईक्यू टेस्ट कराने को कहा, ताकि इसके आधार पर निर्णय हो सके। कुछ दिन पहले यश ने एक वीडियो पीएमओ को टैग करते हुए ट्वीट किया था। इस पर शनिवार को पीएमओ से फोन आया था। करीब पांच मिनट हुई बातचीत के दौरान यश ने प्रधानमंत्री के साथ शिक्षा के बजट पर चर्चा करने की इच्छा जाहिर की। पीएमओ ने कहा है कि उसकी इच्छा आगे भेज देंगे।

अन्य समाचार