मुख्यपृष्ठनए समाचारकैंसर के इस प्रकार से हार गए थे इरफान खान, स्टीव जॉब्स! ......

कैंसर के इस प्रकार से हार गए थे इरफान खान, स्टीव जॉब्स! … आप न करें ये गलती

सामना संवाददाता / हैदराबाद 
कैंसर अपने आप में एक जानलेवा बीमारी है, लेकिन न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर कैंसर ऐसा कैंसर है, जो मरीज की कोशिकाओं में शुरू होता है और शरीर में धीरे-धीरे फैलने लगता है। इसे कैंसर का एक दुर्लभ प्रकार माना जाता है। इस बीमारी के बारे में अभी अधिक शोध नहीं हुआ है, इसलिए इसे घातक श्रेणी में रखा गया है। बता दें कि एप्पल कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स, भारतीय अभिनेता इरफान खान तथा अमेरिकी गायिका एरेथा फ्रैंकलिन, इसी नेट कैंसर या न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर कैंसर का शिकार हुए थे।
क्या है न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर कैंसर?
न्यूरोएंडोक्राइन कैंसर कोशिकाओं में होने वाले ट्यूमर से जुड़ा कैंसर है। यह कोशिकाओं में हार्मोन बनाने वाली तथा तंत्रिका कोशिकाएं शामिल होती हैं, जो पूरे शरीर में मौजूद होती हैं। यह आमतौर पर शरीर के उन हिस्सों में बनता है, जहां हार्मोंस बनते और रिलीज होते हैं। यह सही है कि इस रोग की शुरुआत ट्यूमर के रूप में होती है, जिसका सही समय पर सही इलाज न होने पर यह वैंâसर में परिवर्तित हो सकता है, लेकिन यहां यह जानना भी जरूरी है कि हर न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर कैंसर नहीं होता है या कैंसर में परिवर्तित नहीं होता है।
चिकित्सकों के अनुसार, न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर आमतौर पर अग्न्याशय, मलाशय, अपेंडिक्स, परिशिष्ट, छोटी आंत सहित पेट से जुड़े अंगों, मस्तिष्क, फेफड़ों तथा हार्मोन ग्रंथियों जैसे थाइमस, थायरॉयड ग्रंथि, अधिवृक्क ग्रंथियों और पिट्यूटरी ग्रंथि में भी दिखाई दे सकते हैं। चिकित्सकों की मानें तो यह एक क्यूरेबल कैंसर है, यानी सही समय पर जांच, सर्जरी द्वारा ट्यूमर निकाल कर और उसके बाद जरूरी थेरेपी, दवाओं व अन्य इलाज की मदद से यह ठीक हो सकता है, लेकिन इससे पूरी तरह से ठीक होने की संभावना इस बात पर भी निर्भर करती है कि ट्यूमर शरीर के किस हिस्से में है। जैसे पैंक्रियाज में न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर कैंसर का इलाज काफी जटिल माना जाता है। आमतौर पर इसके लक्षणों को ज्यादातर लोग समय से समझ नहीं पाते हैं क्योंकि कई बार वे बहुत आम होते हैं। देर से लक्षणों की पहचान तथा इलाज में देरी कई बार रोग की गंभीरता को इतना बढ़ा देती है कि ना सिर्फ पीड़ित के पूरी तरह से ठीक होने की संभावना में कमी आने लगती है, बल्कि जानलेवा प्रभावों का जोखिम भी बढ़ जाता है।

 

अन्य समाचार