मुख्यपृष्ठस्तंभइस्लाम की बात : सामाजिक सौहार्द की जीत है जरूरी

इस्लाम की बात : सामाजिक सौहार्द की जीत है जरूरी

सैयद सलमान
मुंबई

हर दिन किसी न किसी ऐसी खबर से मन विचलित हो जाता है, जिसका समाज में असर नकारात्मक पड़ता हो। खासकर दो समाजों के बीच के भेदभाव और उसके पड़ने वाले असर को नजरअंदाज करना मुश्किल हो जाता है। पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर की एक ऐसी ही घटना ने देश में बढ़ती जा रही विभाजनकारी शक्तियों का ऐसा रूप दिखाया, जिसमें शिक्षक जैसा पवित्र पेशा भी बदनाम हुआ। मुजफ्फरनगर से आए एक शर्मनाक और चौंकाने वाला वीडियो वायरल होता दिखाई देता है, जिसमें एक शिक्षिका एक छात्र को क्लास के बाकी सदस्यों से पिटाई करवा रही है। महिला शिक्षिका धर्म विशेष को लेकर कुछ टिप्पणी भी करती नजर आ रही है। वीडियो वायरल होने के बाद इसे सांप्रदायिक रंग देने की भरपूर कोशिश हुई। हालांकि, प्रशासन ने मामले को संज्ञान में लेते हुए जांच के आदेश दिए और खबर आई कि विद्यालय सील कर दिया गया। जिस विद्यार्थी की पिटाई हुई उसके अभिभावकों ने बच्चे का नाम स्कूल से निकलवा लिया। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बच्चे का नाम गांव के ही सरकारी स्कूल में लिखवाने के लिए परिवार को राजी करने की कोशिश की। बच्चे की पढ़ाई सुचारु रूप से जारी रखना जरूरी था, लेकिन बच्चे के पिता ने इस बारे में फिलहाल कोई फैसला नहीं लिया।
पहले मामले पर सहयोगात्मक रवैया रखने वाले पिता ने बाद में शिक्षिका के खिलाफ तहरीर दर्ज करवाई। एफआईआर दर्ज होने के बाद भी गांव के बड़े बुजुर्गों ने बच्चों को गले मिलाकर एक तरह से मामला खत्म करने की अच्छी पहल की। यह भी एक संयोग रहा कि इस मामले में शिक्षिका और विद्यार्थी दोनों त्यागी समुदाय से ही थे। दरअसल, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हिंदू-मुस्लिम दोनों धर्मों में त्यागी जाति के लोग रहते हैं। यही वजह है कि मामला तूल पकड़ने से पहले ही शांत होता नजर आया। लेकिन सियासत से जुड़े लोगों की बड़ी मंशा थी कि इस मुद्दे पर ध्रुवीकरण का खेल खेला जाए। सियासत जिस मुद्दे में घुस जाए वह मुद्दा फिर निजी न होकर नाक का मसला बन जाता है। हालांकि, ग्रामीणों की सूझबूझ और भाईचारा देखकर कई सांप्रदायिक शक्तियों को अपने हाथ पीछे खींचने पड़े।
बात केवल बच्चे को अन्य बच्चों से पिटवाने की नहीं थी। वीडियो में एक समुदाय को लेकर की गई टिप्पणी पर ज्यादा नाराजगी दिखी। हालांकि, शिक्षिका ने वीडियो के साथ छेड़छाड़ से लेकर अपने दिव्यांग होने और सभी समाज के प्रति सम्मान रखने जैसी सफाई पेश की। यही नहीं उसने माफी मांगने वाला वीडियो भी बनाया। शिक्षिका का जो हो सो हो, स्कूल अगर बंद होता है तो यह अन्य बच्चों के साथ अन्याय होगा। अपने सहपाठी को अपनी शिक्षिका की शह पर पीटने वाले बच्चों में हिंसा की भावना हमेशा के लिए घर कर सकती है। किसी अन्य धर्म के बच्चों या कमजोरों पर हाथ उठाना उनके लिए सामान्य हो जाएगा क्योंकि एक गुरु ने इसकी शिक्षा दी है। शिक्षिका के एक जाने-अनजाने कदम ने इतने सारे बच्चों के भविष्य पर प्रश्नचिह्न लगा दिया। जिस बच्चे की अन्य बच्चों ने पिटाई की, बताया जाता है कि उसके मन-मस्तिष्क पर इस घटना का गहरा प्रभाव पड़ा है। वह सदमे में है। उसकी काउंसलिंग की जा रही है।
लेकिन सवाल यह है कि वह क्या चीज है, जो लोगों के जेहन में जहर बनकर घर करती जा रही है। वैâसे सार्वजनिक रूप से धर्म विशेष के लोगों की मॉब लिंचिंग हो रही है। वैâसे खाकी वर्दीधारी चलती ट्रेन में ढूंढ़-ढूंढ़ कर धर्म विशेष के लोगों को मार रहा है। वैâसे एक शिक्षिका अपने ही विद्यार्थी के साथ धार्मिक वैमनस्य रख सकती है। मासूम बच्चियों के बलात्कारियों, मॉब लिंचिंग करने वालों, धर्म की आड़ में हिंसा पैâलाने वालों को जब तक नैतिक, आर्थिक और सामाजिक समर्थन मिलता रहेगा, उनका सार्वजनिक सत्कार होता रहेगा तब तक यह सिलसिला नहीं रुकेगा। देश के प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को विपक्ष की सरकारें गिराने, केंद्रीय एजेंसियों को पार्टी विशेष के हित में काम पर लगाने या प्रचार सभाओं से फुर्सत मिले तब न ऐसे गंभीर मुद्दों पर ध्यान दें। समाजों का यह विभाजन उन्हें भी रास ही आता होगा, तभी तो इन जिम्मेदारों का एक भी बयान नहीं आता। पीड़ित बच्चे के पिता को इस बात को समझना होगा कि अगर बच्चे की पढ़ाई छूटती है तो एक पूरी नस्ल अशिक्षित रह जाएगी। उन्हें समाज में मिलजुलकर रहने वाली नीति और अपने बड़े लोगों की पंचायत पर भरोसा करना होगा। उन राजनेताओं से दूर रहना होगा, जो उनकी पीड़ा और बच्चे के सदमे की बुनियाद पर सियासी मैदान फतह करना चाहते हैं। सामाजिक सौहार्द हर हाल में जीतना चाहिए। ऐसे में सियासत हार जाए, कोई गम नहीं।
(लेखक देश के प्रमुख प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार, राजनीतिक विश्लेषक व मुंबई विश्वविद्यालय, गरवारे संस्थान के हिंदी पत्रकारिता विभाग में समन्वयक हैं।)

अन्य समाचार

लालमलाल!