मुख्यपृष्ठनए समाचारमोदी के विचारों को पचाना हमारे लिए मुश्किल! ... शरद पवार का...

मोदी के विचारों को पचाना हमारे लिए मुश्किल! … शरद पवार का बड़ा बयान

सामना संवाददाता / मुंबई
मोदी के विचारों को पचा पाना हमारे लिए मुश्किल है, इसलिए अगले दो वर्षों में कई क्षेत्रीय दल कांग्रेस के साथ मिलकर काम करेंगे या कांग्रेस पार्टी में विलय कर लेंगे। फिलहाल, मैं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (शरदचंद्र पवार) के बारे में अभी कुछ नहीं कहूंगा। इसे लेकर किसी तरह का कोई भी पैâसला साथियों से चर्चा के बाद लिया जाएगा। राकांपा (शरदचंद्र पवार) के अध्यक्ष शरद पवार ने एक साक्षात्कार में इस तरह का बड़ा बयान देते हुए क्षेत्रीय पार्टियों के भविष्य की राह पर अपनी राय जाहिर की। उन्होंने कहा कि राकांपा वैचारिक रूप से कांग्रेस के करीब है।
महाराष्ट्र की राजनीति में शरद पवार के बयान को काफी अहमियत दी जाती है। इसमें उन्होंने कांग्रेस पार्टी को लेकर बड़ा बयान दिया है। शरद पवार ने भविष्यवाणी की है कि आनेवाले वर्षों में कई राजनीतिक दलों का कांग्रेस में विलय होगा। उनके इस बयान के बाद अब सवाल उठने लगे हैं कि क्या शरद पवार की भविष्यवाणी के कारण राकांपा का भी कांग्रेस में विलय हो जाएगा? लेकिन शरद पवार ने इसका भी खुलासा कर दिया है। उन्होंने कहा कि मैं अपने सहकर्मियों से चर्चा किए बिना कुछ नहीं कहूंगा। शरद पवार ने यह भी कहा कि हमारी पार्टी को लेकर कोई भी कदम उठाते समय या रणनीति तय करते समय सामूहिक रूप से निर्णय लिया जाएगा।
भाजपा और मोदी के साथ जाने से इनकार
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में फूट पड़ने के बाद अजीत पवार भारतीय जनता पार्टी के साथ एनडीए में शामिल हो गए हैं। उनके साथ अजीत पवार को भी राकांपा का चुनाव चिह्न और नाम मिला है। ऐसे में क्या उसके बाद शरद पवार भी भाजपा में शामिल होंगे? इस सवाल का जवाब देते हुए शरद पवार ने भाजपा के साथ जाने से साफ इनकार कर दिया है। शरद पवार ने कहा है कि हमारे लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ जाना या उनके विचारों को पचाना मुश्किल है।
कई नेताओं ने रखे अपने मत
राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार के उक्त बयान के बाद सांसद सुप्रिया सुले ने इस संदर्भ में अधिक बात करने से इनकार करते हुए कहा कि यह शरद पवार का सामान्य बयान है।
राहुल गांधी ने मुझे पहले ही इसकी जानकारी दे दी थी – नाना पटोले
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि राहुल गांधी ने मुझे बताया था कि इस संबंध में राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा चल रही है। राहुल गांधी ने मुझसे कहा कि देशभर में कई पार्टियों ने ऐसा रुख अपनाया है कि सभी को भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ एकजुट होना चाहिए, इसलिए शरद पवार ने ही ऐसा बयान दिया होगा।

अन्य समाचार