मुख्यपृष्ठनए समाचारवोट के लिए प्रलोभन देना हमारी नीति नहीं! ...शरद पवार का अजीत...

वोट के लिए प्रलोभन देना हमारी नीति नहीं! …शरद पवार का अजीत पवार पर कटाक्ष

सामना संवाददाता / मुंबई
बारामती लोकसभा क्षेत्र में प्रचार के दौरान अजीत पवार ने मतदाताओं से टका-टका वोट डालने की अपील की थी। उनके इस बयान की जमकर आलोचना हो रही है। कल शरद पवार ने भी अजीत पवार को तीखा जवाब दिया। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने आपको बताया कि वोट कैसे देना है। लेकिन मैं ऐसा नहीं कहूंगा। शरद पवार ने कहा है कि लेन-देन लेकर वोट मांगना हमारी भूमिका नहीं है। इसके साथ ही उन्होने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि ऊपर की जेब से छह हजार देते है और नीचे की जेब से निकाल लेते है, ऐसे पाकिटमारों के खोज करो।
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (शरदचंद्र पवार) के अध्यक्ष शरद पवार ने मतदाताओं से सुप्रिया सुले के लिए वोट करने का आग्रह किया। बारामती लोकसभा क्षेत्र में सुप्रिया सुले के प्रचार अभियान की शरद पवार ने शुरुआत कर दी है। इस दौरान कन्हेरी गांव में एक सभा का आयोजन किया गया। इस सभा का मार्गदर्शन करते हुए शरद पवार बोल रहे थे। शरद पवार ने कहा कि बहुत से लोग कुछ न कुछ कहते रहते हैं। इन सब बातों को नजरअंदाज करके आपको सिर्फ तुरही के सामने बटन दबाना है। कल किसी ने बताया कि इसे कैसे दबाना है। उसने यह भी कहा है कि वे आपको निराश नहीं करेंगे। हालांकि, मैं ऐसा नहीं कहूंगा। श्रेय लेकर वोट मांगना हमारी भूमिका नहीं है। शरद पवार ने अजीत पवार की खिल्ली उड़ाते हुए यह भी कहा है कि हमारी भूमिका लोगों के साथ काम करना, लोगों को ताकत देना, लोगों की सेवा करना और वोट मांगना है।
नए चुनाव चिह्न और शरद पवार को याद रखकर करें वोट
शरद पवार ने कहा कि इस बीच कुछ चीजें हुर्इं। आपका आइकन बदल गया है। अब शरद पवार ने भी नए चुनाव चिह्न को ध्यान में रखते हुए उसी तरीके से वोट करने की अपील की है। लोकतंत्र में मतदाता को निर्णय लेने का अधिकार है। वह अधिकार बचा रहना चाहिए। आज देश के लोकतंत्र में कुछ अलग हो रहा है, इसका संदेह है। अगर ऐसा होता है, तो आपका वोट देने का अधिकार प्रभावित होगा। शरद पवार ने यह भी कहा है कि हमें सतर्क रहना चाहिए, ताकि यह अधिकार बना रहे। शरद पवार ने कहा कि २२ जनवरी २०२४ को अयोध्या में राम मंदिर में राम मूर्ति का प्राण प्रतिष्ठा समारोह आयोजित किया गया। यह समारोह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सरसंघचालक मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी और साधु-संतों की उपस्थिति में आयोजित किया गया था।

दादा की बढ़ेंगी मुश्किलें
बारामती लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र अंतर्गत इंदापुर में आयोजित डॉक्टरों के सम्मेलन में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार द्वारा दिए गए प्रलोभन को चुनाव आयोग ने गंभीरता से लेते हुए पुणे के जिलाधिकारी को अजीत पवार की बयान को जांच कर रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है, जिसके कारण अजीत पवार की मुश्किले बढ़ती हुई दिखाई दे रही हैं। इस सम्मेलन में अजीत पवार ने जो भी जरूरत होगी, उसे पूरा करने का आश्वासन देते हुए सुनेत्रा पवार के चुनाव चिह्न पर बटने दबाने का आह्वान किया था। अजीत पवार द्वारा मतदाताओं को प्रलोभन देना आचार संहिता का उल्लंघन है। ऐसी शिकायत राकांपा (शरदचंद्र पवार) पार्टी के विधायक रोहित पवार ने चुनाव आयोग से की थी। रोहित पवार ने चुनाव आयोग से अजीत पवार के बयान को गंभीरता से लेते हुए आचार संहिता भंग का मामला दर्ज करने की मांग की थी। रोहित की शिकायत को चुनाव आयोग गंभीरता से लेते हुए पुणे जिलाधिकारी को निर्देश दिया है कि अजीत पवार के बयान की जांच करके रिपोर्ट पेश की जाए। चुनाव आयोग के इस कदम से अजीत पवार की मुश्किलें बढ़ती हुई दिखाई दे रही है।

अन्य समाचार