मुख्यपृष्ठनए समाचारसर्वशक्तिमान अल्लाह की मर्जी है, पुरुष शासक, महिला गुलाम! ... तालिबान के...

सर्वशक्तिमान अल्लाह की मर्जी है, पुरुष शासक, महिला गुलाम! … तालिबान के शिक्षा मंत्री का फरमान

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
जब से अफगानिस्तान में तालिबान का राज आया है, वहां एक बार फिर से महिलाओं की स्थिति काफी खराब हो गई है। तालिबान के पिछले शासनकाल में भी ऐसी ही स्थिति थी। अब तालिबानी शिक्षा मंत्री नेदा मोहम्मद नदीम ने कहा है कि शरिया के आधार पर पुरुष और महिलाएं समान नहीं हैं। टोलो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, नदीम ने यह बात बाघलान विश्वविद्यालय में एक बैठक के दौरान कही। नदीम ने साफ कहा कि यह सर्वशक्तिमान अल्लाह की मर्जी है कि पुरुष शासक रहे और महिला गुलाम।
मंत्री नदीम ने कहा कि महिलाओं से जुड़ी चिंताओं के बहाने मौजूदा व्यवस्था को ध्वस्त करने की कोशिश की जा रही है। पश्चिमी देश इस कोशिश में हैं कि पुरुष और महिला एक समान हैं, जबकि पुरुष शासक है और महिला उसकी गुलाम। नदीम ने बाघलान विवि में एक बैठक के दौरान कहा, ‘सर्वशक्तिमान अल्लाह ने पुरुषों और महिलाओं के बीच अंतर किया है। पुरुष शासक है, उसके पास अधिकार है और महिला को उसकी आज्ञा का पालन करना चाहिए। महिला को उसकी दुनिया को स्वीकार करना चाहिए। एक महिला एक पुरुष के बराबर नहीं हो सकती। हालांकि, वे (पश्चिमी देश) उसे एक आदमी से ऊपर रखने की कोशिश कर रहे हैं।’ गौरतलब है कि अमेरिकी नेतृत्व वाली नाटो सेनाओं की वापसी के बाद २०२१ में तालिबान के सत्ता में लौटने के बाद से अफगानिस्तान की महिलाओं को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

अन्य समाचार