मुख्यपृष्ठग्लैमरबहुत मजा आया!- मधुरिमा तुली

बहुत मजा आया!- मधुरिमा तुली

फिल्म बेबी (२०१५) और अवरोध (२०२०) की अदाकारा मधुरिमा तुली बिग बॉस १३ से काफी चर्चा में आई थीं। प्यार को एक खूबसूरत चीज मानने वाली मधुरिमा तब तक अकेली और खुश रहने में विश्वास रखती हैं, जब तक कि उनके जीवन में सही व्यक्ति न आ जाए। हिमांशु राज से कई मुद्दों पर उन्होंने खुल कर अपने विचार रखे।

उत्तराखंड के पहाड़ों की एक लड़की मधुरिमा तुली एकाएक ग्लैमर इंडस्ट्री में आती है और अपना अलग मुकाम बनाती है। कैसे हुआ ये सब?

-मेरे लाइफ में ये सब कुछ एकाएक ही हुआ। मैं एथलीट थी। क्रिकेट में भी मेरा सिलेक्शन हो गया था। इस दौरान मेरे अंकल ने मेरी फोटो बिना मुझे बताए ब्यूटी पेजेंट प्रतियोगिता मिस उत्तराखंड में भेज दी थी। जिस दिन मेरा क्रिकेट में सिलेक्शन हुआ था, उसी दिन मैं मिस उत्तराखंड कम्पटीशन के लिए सिलेक्ट हो गई थी। जब ये बात मैंने अपने क्रिकेट कोच से बताई तो उन्होंने मुझे कम्पटीशन में भाग लेने के लिए कहा। मैं वो कम्पटीशन जीत भी गई। इसके बाद मुझे लगा कि मुंबई जाकर अपनी किस्मत आजमानी चाहिए। मम्मी-पापा के कहने पर पढ़ाई पूरी करके मुंबई आ गई। मैंने यहां एक्टिंग का कोर्स किया और मुझे काम मिलने लगा।

अपने परिवार के बारे में कुछ बताएं?

मेरे छोटे भाई इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद इंडस्ट्री में आ गए। वह एक म्यूजिक डायरेक्टर हैं। उनकी म्यूजिक एल्बम `हया’ को काफी सराहना मिली, जिसमें मैं भी भूमिका में हूं। मम्मी समाज सेवा से जुड़ी हैं। पिताजी आईआईटी (बीएचयू) माइनिंग में लेक्चरर थे। आजकल वो अपना ज्यादा समय ध्यान योग में बिताते हैं।

बिग बॉस १३ कैसे रहा? आप इंट्रोवर्ट हैं न चाहते हुए भी लड़ाई कर लिया क्यों?

आप लड़ाई नहीं, उसको प्यार कहें। दोस्तों में भी कभी-कभी लड़ाई हो जाती है। बिग बॉस में मजा आया। बिग बॉस के घर में रहना आसान नहीं है। गेम के दौरान मैंने अपना आपा खो दिया। मैं खुद से ही नाराज थी, उसकी भड़ास कहीं तो निकलनी थी, सो निकल गई शायद।
तेलुगू फिल्म `सत्था’, फिल्म `होमम’ में सहायक अभिनेत्री सत्या से लेकर बॉलीवुड की

सुपरहिट फिल्म ‘बेबी’ में अक्षय कुमार की बीवी का रोल करने का सफर कैसा रहा?

सफर संघर्षपूर्ण रहा लेकिन अच्छा ही कहा जाएगा। इस इंडस्ट्री में किस्मत बहुत बड़ी चीज होती है। मैंने तेलुगू फिल्म सत्था २००४ में की थी। इस इंडस्ट्री में मुझे बीस साल हो गए। मैंने तेलुगू के अलावा कन्नड़, पंजाबी व तमिल फिल्मों में भी काम किया है। बेबी फिल्म में अगर लोगों ने मेरे काम को पसंद किए तो टीवी सीरियल कस्तूरी, कुमकुम भाग्य, चंद्रकांता के किरदार से भी एक अलग पहचान मिली।

आपका खिलाड़ी होना कितना सहायक रहा आपके लिए इंडस्ट्री में?

इंडस्ट्री में बहुत ज्यादा काम आया, तभी तो अभी भी भाग रही हूं। कई बार ऐसा समय आता है, जब आप हताश हो जाते हो। अपने रास्ते से भटकने लगते हो तो आपका खिलाड़ी मन आपको टिकाए रखता है। खिलाड़ी स्वत: अनुशासित होते हैं। गिरकर दोबारा खड़े होने की प्रवृत्ति आपके अंदर रहती है, जो आपके जीवन में हमेशा काम आती है।

अन्य समाचार