मुख्यपृष्ठनए समाचारराजस्थान में ' जल प्रलय'! ...बाढ़ग्रस्त इलाके सेना के हवाले

राजस्थान में ‘ जल प्रलय’! …बाढ़ग्रस्त इलाके सेना के हवाले

सामना संवाददाता / जयपुर

राजस्थान में सक्रिय नया वेदर सिस्टम आफत बनकर बरस रहा है। दो दिन से लगातार हो रही भारी बारिश से कई जिलों में बाढ़ आ गई। गांव के गांव पानी में डूबे हैं। हजारों लोग फंसे हैं। हालात से निपटने के लिए NDRF, SDRF और सेना की टीमें जुटी हुई हैं। राजस्थान में चल रहे भारी बारिश के दौर के कारण बुधवार को भी कई जिलों में स्कूलों में अवकाश रहेगा। भारी बारिश वाले इलाकों में शुमार कोटा संभाग के झालावाड़ और बारां समेत टोंक, जालोर, उदयपुर तथा धौलपुर में कहीं एक दिन तो कहीं दो दिन के लिए स्कूल बंद कर दिए गए हैं। इस बीच बूंदी में पानी में फंसे लोगों को बचाने के लिए सेना को बुलाया गया है। वहीं धौलपुर में चंबल नदी खतरे के निशान से करीब 10 मीटर ऊपर बह रही है। वहां सेना को तैनात कर दिया गया है। राजस्थान के कई बांधों के गेट खोलकर अतिरिक्त पानी की निकासी की जा रही है। इससे नदियां उफान पर आ रही हैं। कई जगह हादसों के कारण जान और माल का नुकसान हुआ है। रेस्क्यू टीमें हालात को संभालने में जुटी हैं।

भारी बारिश के कारण झालावाड़ जिले में स्कूलों में अवकाश की अवधि बढ़ा दी गई है। झालावाड़ जिले में अब 24 से 26 अगस्त तक सभी सरकारी और निजी स्कूल बंद रहेंगे। बारां जिले में 24 और 25 अगस्त के लिए स्कूलों में अवकाश घोषित किया गया है। टोंक बारिश के चलते बुधवार को भी स्कूलों की छुट्टी रहेगी। टोंक में इसके साथ ही सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में भी अवकाश रहेगा। जालोर और उदयपुर में भी लगातार बारिश से बिगड़े हालात के कारण 24 अगस्त को दोनों जिलों के सभी निजी व सरकारी स्कूलों में अवकाश घोषित किया गया है। धौलपुर में चंबल नदी किनारे के बाढ़ संभावित इलाकों में 24 से 27 अगस्त तक अवकाश घोषित किया गया है।

अन्य समाचार