मुख्यपृष्ठनए समाचारसुप्रीम कोर्ट द्वारा राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने के फैसले...

सुप्रीम कोर्ट द्वारा राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने के फैसले का जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दलों ने किया स्वागत

दीपक शर्मा / जम्मू
२०१९ मानहानि मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक दलों ने स्वागत किया। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल काॅन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर कहा, ‘वायनाड के लोगों को लोकसभा में अपना प्रतिनिधित्व बहाल होने पर बधाई।

एक अन्य पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उन्हें खुशी है कि राहुल ‘भारत के विचार’ के लिए लड़ते हुए संसद में वापस आएंगे। उन्होंने कहा, ‘मैं ऐसे मामले में राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करती हूं। खुशी है कि वह भारत के विचार के लिए लड़ते हुए संसद में वापस आएंगे।’

शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष मनीष साहनी ने राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि इस फैसले से अदालत के प्रति लोगों का विश्वास और अधिक मजबूत होगा। जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी (जेकेपीसीसी) के अध्यक्ष विकार रसूल वानी ने कहा कि न्याय की जीत हुई है। ‘हम राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। न्याय की जीत हुई है। कोई भी ताकत लोगों की आवाज को दबा नहीं सकती।’
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मोदी उपनाम वाली टिप्पणी पर २०१९ मानहानि मामले में गांधी की सजा पर रोक लगा दी और एक सांसद के रूप में उनका दर्जा बहाल कर दिया।

तीन-न्यायाधीशों न्यायमूर्ति बी आर गवई, न्यायमूर्ति पी. एस. नरसिम्हा और न्यायमूर्ति संजय कुमार की पीठ ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि बयान अच्छे मूड में नहीं थे और सार्वजनिक जीवन में एक व्यक्ति से सार्वजनिक भाषण देते समय सावधानी बरतने की उम्मीद की जाती है।

पीठ ने कहा, ‘ट्रायल जज द्वारा अधिकतम सजा देने का कोई कारण नहीं बताया गया है, अंतिम पैâसला आने तक दोष सिद्धि के आदेश पर रोक लगाने की जरूरत है।’

अन्य समाचार