मुख्यपृष्ठसमाचार‘जय भवानी जय शिवाजी’ के नारों से गूंजा जम्मू! कश्मीरी हिंदू कर्मचारियों...

‘जय भवानी जय शिवाजी’ के नारों से गूंजा जम्मू! कश्मीरी हिंदू कर्मचारियों के धरने में शामिल हुए शिवसैनिक

सामना संवाददाता / जम्मू
केंद्र सरकार की ढुलमुल नीति के चलते कश्मीर में तैनात कश्मीरी पंडितों की मांगों की अनदेखी हो रही है। जम्मू में धरने पर बैठे कश्मीर में तैनात कश्मीरी पंडितों की मांगों के समर्थन में कल शिवसेना जम्मू-कश्मीर इकाई प्रमुख मनीष साहनी के नेतृत्व में शिवसैनिकों का एक दल उनकी मांगों का समर्थन करते हुए धरने में शामिल होने पर ‘जय भवानी जय शिवाजी’ के नारों से गूंज उठा। इस मौके पर ऑल माइग्रेंट इम्प्लॉइज एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने शिवसेना जम्मू-कश्मीर इकाई प्रमुख मनीष साहनी को अपनी मांगों का एक ज्ञापन सौंपा। एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना है कि कश्मीर घाटी में असुरक्षा के माहौल में केंद्रसरकार उन्हें बलि का बकरा‌ बना रही है। सुरक्षा को लेकर कश्मीरी पंडित कर्मचारी जम्मू के सुरक्षित स्थानों पर‌ तबादले की मांग एक माह से कर रहे हैं लेकिन प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। साहनी ने धरने पर बैठे लोगों को विश्वास दिलाया कि जिस प्रकार १९९० में कश्मीर घाटी में हिंदुओं के साथ हुई दहशतगर्दी के दौरान उनकी रक्षा के लिए आगे आकर हिंदूहृदयसम्राट शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे ने मदद का हाथ बढ़ाया था ठीक उसी प्रकार शिवसेना अपने कश्मीरी पंडित भाइयों के साथ खड़ी है। साहनी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के सांसदों ने कभी भी संसद के अंदर कश्मीरी हिंदुओं की मांगों पर आवाज नहीं उठाई। साहनी ने शिवसेना की राज्यसभा सांसद प्रियंका चतुर्वेदी को उक्त मांगों को लेकर ज्ञापन की प्रति भेजी। धरने में शामिल मनीष साहनी के साथ मीनाक्षी छिब्बर, विकास बख्शी, राज सिंह, दीपक, अशोक सहित बड़ी संख्या में शिवसैनिक उपस्थित थे।

अन्य समाचार

ऊप्स!