मुख्यपृष्ठखेलओलंपिक पर जैसमीन की नजर

ओलंपिक पर जैसमीन की नजर

राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज जैसमीन लंबोरिया की निगाहें पेरिस ओलंपिक कोटा हासिल करने पर लगी हैं, जिसके लिए वे मानसिक मजबूती बढ़ाने के साथ अपने मुक्कों को दमदार करने पर भी ध्यान लगा रही हैं। एशियाई खेलों में पदार्पण के दौरान जैसमीन ने ६० किग्रा वर्ग का पहला दौर दबदबा बनाते हुए जीता लेकिन क्वार्टर फाइनल में रेफरी ने उन्हें चेतावनी दी, जिसके बाद वे समझ नहीं सकीं कि वापसी वैâसे की जाए और रेफरी ने मुकाबला रोककर प्रतिद्वंद्वी को विजेता घोषित किया। चेतावनी दी गयी थी, मुझे पहली बार ‘काउंटिंग’ मिली। मैं इसे संभाल नहीं सकी। इसलिए इस तरह के हालात में वापसी का तरीका जानना बहुत महत्वपूर्ण होता है जो मैं नहीं कर सकी। इस जीत से उन्हें पदक के अलावा पेरिस ओलंपिक कोटा भी मिल गया होता। जैसमीन ने कहा कि एशियाड मुकाबले के बाद कोच ने मुझे मानसिक पहलू पर काम करने को कहा है। मैं मनोचिकित्सक के साथ काम कर रही हूं। उन्होंने कहा कि मैं काफी चीजें सीख रही हूं, मैं अपनी कमजोरियों पर काम करने की कोशिश कर रही हूं। मेरा खेल भी समय के साथ बेहतर हो रहा है। पर एकदम से नहीं आ रहा, समय लग रहा है।

अन्य समाचार