" /> मेरा कोई गाॅडफादर नहीं! -जटालेका मल्होत्रा

मेरा कोई गाॅडफादर नहीं! -जटालेका मल्होत्रा

पूनम ढिल्लों और अशोक ठाकरिया के बेटे अनमोल ठाकरिया की डेब्यू फिल्म `ट्यूस्डेज एंड  फ्रायडेज’ १९ फरवरी को रिलीज होने जा रही है। अनमोल के अपोजिट हैं जटालेका मल्होत्रा। `मिस इंडिया-२०१४’ और `मिस इंटरनेशनल ब्यूटी पेजेंट’ में रनर अप रह चुकीं जटालेका कई अन्य सौंदर्य स्पर्धाओं में अव्वल स्थान पा चुकी हैं। संजय लीला भंसाली की फिल्म में मौका मिलना अपने आप में बड़ी बात है। यह फिल्म एक यूनिक लवस्टोरी है। पेश है अपने आपको फिल्मी कीड़ा माननेवाली जटालेका से पूजा सामंत की हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

 संजय लीला भंसाली की फिल्म `ट्यूस्डेज एंड  फ्रायडेज’ में आपको ब्रेक मिला?
इसके पीछे एक लंबी कहानी है। मेरी मां सायकोलॉजी और इंग्लिश की प्रोफेसर रही हैं। मेरे पिताजी मर्चेंट नेवी में कार्यरत रहे हैं और मेरा भाई अभी फैशन डिजायनर बन चुका है। मेरे परिवार का फिल्मी कनेक्शन नहीं है परंतु हम घर के सभी सदस्य फिल्म प्रेमी हैं। मैं अपने बारे में कहूं तो मैं बचपन से फिल्मी कीड़ा रही हूं। मैंने शौकिया तौर पर डांस सीखा। आईने के सामने डायलॉग्स बोलना, एक्सप्रेशंस देने के साथ ही मैं बॉलीवुड डांस करने लगी। मेरे घर के मेंबर्स जान चुके थे कि मैं अपना करियर फिल्मों में बनाऊंगी। मेरा अगला मोड़ था, मिस इंडिया ब्यूटी पेजेंट्स। उसमें रनर अप होने के बाद मैं जापान गई, इंटरनेशनल ब्यूटी पेजेंट्स के लिए। इसमें मिस इंटरनेट खिताब पाने के बाद मैं २०१४ में जब वापस मुंबई आई तो मुझे ढेर सारे मॉडलिंग के ऑफर्स मिले और इनके साथ मैं फिल्मों के लिए ऑडिशन देती रही।
 क्या आपने संजय लीला भंसाली प्रोडक्शन में ऑडिशन दिया था?
`टी सीरीज’ और भंसाली सर की ये फिल्म है। मुझे भंसाली सर की कंपनी की सीईओ शोभा संत का फोन आया और उन्होंने मुझे ऑफिस में मिलने के लिए बुलाया। उनसे एक जनरल मीटिंग होने के बाद संजय भंसाली सर भी मिले। डायलॉग्स ऑडिशन के साथ ही मेरे डांस का भी ऑडिशन हुआ। कुछ दिनों बाद मेरे फोटोज प्रोडक्शन हाउस ने मंगवाए। फिर भी मामला आगे नहीं बढ़ा। मैं निराश हो गई। कुछ महीनों बाद मुझे भंसाली सर के ऑफिस से दोबारा फोन आया और उन्होंने मुझे मिलने के लिए बुलाया। फिर जाकर मैंने फिल्म `ट्यूस्डेज एंड प्रâायडेज’ खुश होकर साइन कर ली।
 ये एक लवस्टोरी है? क्या किरदार है आपका?
मैं इसे लवस्टोरी विथ ए ट्विस्ट कहूंगी। सिया और वरुण एक-दूसरे से प्यार करते हैं परंतु सिया की शर्त है कि सप्ताह में मंगलवार और शुक्रवार को ही मिलना है और अगर इन दो दिनों में बात न बने तो आगे नहीं बढ़ना है। इनकी लवस्टोरी इन शर्तों के साथ वैâसे आगे बढ़ती है? यह देखना वाकई दिलचस्प होगा। मेरा किरदार सिया का है और मेरे प्रेमी बने हैं अनमोल ठाकरिया। मैं अनमोल को अपने सोशल सर्कल के जरिए पहले से जानती थी इसीलिए हमारे बीच एक अच्छी अंडर स्टैंडिंग बन गई।
 इस किरदार को निभाने के लिए आपने वैâसी तैयारी की?
सिया आजकल की लड़की है परंतु उसके अपने नियम हैं, जिससे शादी करनी है उसे जानना जरूरी है, ऐसा वो मानती है। इस सीधी-साधी शोख सिया को जानने-समझने के लिए निर्देशक तरणवीर सिंह ने पूरी यूनिट से कई वर्कशॉप्स करवाए।
 संजय लीला भंसाली सख्त मेकर हैं। उनके साथ आपका अनुभव कैसा रहा?
भंसाली सर की फिल्म में मुझ जैसी न्यूकमर को मौका मिलना इससे बड़ी खुशकिस्मती और क्या होगी? कई अभिनेता और अभिनेत्रियों को भंसाली सर ने सफलता दिला दी। अगर भंसाली सर किसी पर नाराज हुए भी होंगे तो वो फिल्म के लिए, किरदार की बेहतरी के लिए हुए होंगे। खैर, मैं तो धन्य हो गई उनकी फिल्म में मौका पाकर!