मुख्यपृष्ठखबरेंमुजफ्फरनगर थप्पड़ कांड पर जयंत ने भाजपा नेताओं से पूछा सवाल! इस...

मुजफ्फरनगर थप्पड़ कांड पर जयंत ने भाजपा नेताओं से पूछा सवाल! इस समय देश में डर का माहौल चरम पर है

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ

यूपी के मुजफ्फरनगर जनपद के गांव खुब्बापुर में नेहा पब्लिक स्कूल में शिक्षिका द्वारा यूकेजी छात्र को सहपाठियों से पिटवाने का मामला सियासी तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले को लेकर कई नेता सवाल उठा चुके हैं। अब फिर से रालोद अध्यक्ष चौधरी जयंत ने भाजपा नेताओं पर निशाना साधते हुए सवाल किया है। उन्होंने स्कूल में शिक्षिका तृप्ति त्यागी द्वारा अल्पसंख्यक समुदाय के यूकेजी के छात्र को पिटवाने के मामले में भाजपा नेताओं पर निशाना साधा है।
जयंत चौधरी ने भाजपा नेताओं से पूछा है कि क्या वे अपने बच्चों को ऐसे स्कूल में पढ़ने भेजेंगे? जयंत ने केंद्र और योगी सरकार पर भी निशाना साधते हुए कहा कि जब एक पक्ष की आवाज को सही मानकर प्रोत्साहित किया जाए और अवैध कार्यों में शामिल लोग अपने किए अपराध से बच जाएं तो यह नियंत्रण से बाहर की बात है। इस समय देश में डर का माहौल अपने चरम है। उन्होंने कहा कि हमें अपने अधिकारों की सुरक्षा करनी होगी। साथ ही कहा कि हमें समाज के गरीबों, वंछितों की सुरक्षा भी करनी होगी। जयंत ने कहा कि अपने अधिकारों के लिए लड़ना हमारे लोकतंत्र को मजबूत करता है।
रालोद अध्यक्ष ने कहा कि एक स्कूल में शिक्षिका द्वारा एक यूकेजी के छात्र को अन्य सहपाठियों से पिटवाया गया। पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो बच्चे के परिजन देख हैरान रह गए। जयंत ने एक भाजपा नेता पर निशाना साधते हुए कहा कि वे शिक्षिका को बचाने के चक्कर में लगे हैं। उन्होंने कहा कि वे त्यागी समाज को देख रहे हैं, जबकि मैं वहां किसी त्यागी या समाज को नहीं देख रहा हूं। मैं तो सिर्फ इतना पूछ रहा हूं कि क्या हम अपने बच्चों को ऐसा व्यवहार सिखाएंगे।
उन्होंने कहा कि सोचिए, अगर हमारे बच्चे ऐसे माहौल में पढ़ेंगे तो उनका भविष्य कैसा होगा। बता दें कि खुब्बापुर गांव के नेहा पब्लिक स्कूल में शिक्षिका तृप्ति त्यागी ने पांच का पहाड़ा नहीं सुनाने पर अल्पसंख्यक समुदाय के यूकेजी के छात्र की सहपाठियों से बेरहमी से पिटाई करा दी। इसी दौरान जातीय टिप्पणी भी की गई। प्रकरण के दौरान पीड़ित छात्र के चचेरे भाई ने वीडियो बना ली। वीडियो के वायरल होते ही देशभर से प्रतिक्रियाएं आने लगीं और शिक्षिका की गिरफ्तार की मांग उठती रही।

अन्य समाचार

लालमलाल!