मुख्यपृष्ठधर्म विशेषजीवन दर्पण : हनुमान चालीसा का पाठ करें, परेशानियां होने लगेंगी दूर

जीवन दर्पण : हनुमान चालीसा का पाठ करें, परेशानियां होने लगेंगी दूर

डॉ. बालकृष्ण मिश्र

गुरुजी, मेरी आर्थिक परेशानी कब तक दूर होगी, उपाय बताएं?
– शिवेंद्र सिंह
(जन्म ९ सितंबर १९९७ शाम ४:१५बजे प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश)
शिवेंद्र जी, आपका जन्म मंगलवार के दिन अनुराधा नक्षत्र के चतुर्थ चरण में हुआ है और आपकी राशि वृश्चिक बन रही है। वर्तमान समय में वृश्चिक राशि पर शनि की ढैया का प्रभाव चल रहा है। शनि की ढैया के कारण शनि आपकी राशि से चौथे स्थान पर बैठ करके अपनी सप्तम दृष्टि से दशम भाव को देख रहा है इसलिए करियर का पूरा लाभ आपको नहीं मिल पा रहा है। प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ आप तीन बार करें और संभव हो तो पीपल के पेड़ की परिक्रमा भी प्रारंभ कर दें। ऐसा करने से धीरे-धीरे आपकी परेशानियां समाप्त होने के साथ ही आर्थिक स्थिति भी अच्छी हो जाएगी। जीवन को विस्तारपूर्वक जानने के लिए संपूर्ण जीवन दर्पण बनवाएं।

गुरुजी, कृपया मेरे भविष्य के बारे में बताएं?
– अजय मौर्या
(जन्म- १ जुलाई १९९७, समय- दिन ४.३०, स्थान- उत्तर प्रदेश)
अजय जी, आपका जन्म कृतिका नक्षत्र के तृतीय चरण में हुआ है और आपकी राशि वृषभ है। लग्न के आधार पर अगर हम बात करें तो वृश्चिक लग्न में आपका जन्म हुआ है और लग्न का स्वामी मंगल आपकी कुंडली में लाभ भाव में स्थित है। चंद्रमा आपकी कुंडली में उच्च राशि का है इसलिए मानसिक चिंता बनी रहती है, लेकिन द्वितीय भाव का स्वामी बृहस्पति नीच राशि का हो करके आपकी कुंडली में पराक्रम भाव पर बैठकर भाग्य भाव को अपनी पूर्ण दृष्टि से देख रहा है। इसलिए शादी के बाद आपका भाग्योदय होने की बात दिखाई दे रही है। जीवन को विस्तारपूर्वक जानने के लिए संपूर्ण जीवन दर्पण बनवाएं।

गुरुजी, मेरी शिक्षा और स्वास्थ्य वैâसा होगा, बताएं?
– प्रांजल तिवारी
(जन्म- ८ अप्रैल २००६, समय- दिन में १.३१ स्थान- जौनपुर, उत्तर प्रदेश)
प्रांजल जी, आपका जन्म आश्लेषा नक्षत्र के तृतीय चरण में हुआ है और आपकी राशि कर्क बन रही है। वर्तमान समय में कर्क राशि पर शनि की ढैया का प्रभाव चल रहा है और शनि आपकी राशि से अष्टम स्थान पर बैठा हुआ है और अष्टम स्थान का स्वामी भी है इसलिए स्वास्थ्य को लेकर किसी न किसी प्रकार से दिक्कत होती होगी। इसके लिए आपको शनि का उपाय करना चाहिए। इसके लिए आपको प्रतिदिन पीपल के पेड़ की परिक्रमा ५ मिनट तक कम से कम ४३ दिनों तक जरूर करनी चाहिए, साथ ही प्रतिदिन हनुमान चालीसा का तीन बार पाठ भी करें। जीवन को विस्तारपूर्वक जानने के लिए संपूर्ण जीवन दर्पण बनवाएं।

गुरुजी, मेरी शिक्षा और भविष्य वैâसा होगा?
– हर्षिता तिवारी
(जन्म- २८ अप्रैल २००८, समय- रात्रि ३.४५, स्थान- भदोही, उत्तर प्रदेश)
हर्षिता जी, आपका जन्म सोमवार के दिन उत्तराषाढ़ नक्षत्र के तृतीय चरण में हुआ है और आपकी राशि मकर बन रही है। राशि के आधार पर अगर हम देखें तो आपकी राशि पर शनि की साढ़ेसाती अंतिम चरण में चल रही है। आपकी कुंडली में ११वें और १२वें भाव का स्वामी शनि इस समय दूसरे स्थान पर बैठा है। आपको प्रतिदिन हनुमान चालीसा का तीन बार पाठ और विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ सुनना चाहिए। इसे करने से आपका एजुकेशन अच्छा होने के साथ ही आपका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा, लेकिन सूर्य ग्रह आपकी कुंडली में उच्च राशि का है और बुध ग्रह के साथ बैठा है इसलिए आप बुद्धिमान बहुत हैं। आपकी कुंडली में बुधादित्य योग बना हुआ है। मन की एकाग्रता ही आपको ऊंचाई के शिखर तक ले जाएगी। जीवन को विस्तारपूर्वक जानने के लिए संपूर्ण जीवन दर्पण बनवाएं।

गुरुजी, मेरी राशि क्या है और मेरी शिक्षा वैâसी होगी?
– रौनक चौधरी
(जन्म- १३ सितंबर २०१२, समय- दिन ७.४५ स्थान- भदोही, उत्तर प्रदेश)
रौनक जी, आपका जन्म आश्लेषा नक्षत्र के प्रथम चरण में हुआ है और आपकी राशि कर्क बन रही है। इस समय कर्क राशि पर शनि की ढैया का प्रभाव चल रहा है। अगर गोचर के आधार पर हम बात करें तो आपकी राशि में आठवें स्थान पर शनि बैठ करके दशम भाव को अपनी पूर्ण दृष्टि से देख रहा है इसलिए शनि की ढैया के प्रभाव के कारण शिक्षा में मन भटक रहा है। अगर आप बड़ों की बात नहीं मानेंगे तो आपकी शिक्षा कमजोर होगी। आपको प्रतिदिन हनुमान चालीसा का तीन बार पाठ करना चाहिए और आपकी मां को प्रदोष व्रत रखना चाहिए। जीवन को विस्तारपूर्वक जानने के लिए आपको संपूर्ण जीवन दर्पण बनवाना चाहिए।

ग्रह-नक्षत्रों के आधार पर आपको देंगे सलाह। बताएंगे परेशानियों का हल और आसान उपाय। अपने प्रश्नों का ज्योतिषीय उत्तर जानने के लिए आपका अपना नाम, जन्म तारीख, जन्म समय, जन्म स्थान मोबाइल नं. ९२२२०४१००१ पर एसएमएस करें। उत्तर पढ़ें हर रविवार…!

अन्य समाचार