मुख्यपृष्ठस्तंभझांकी : केसरी फुर्र

झांकी : केसरी फुर्र

अजय भट्टाचार्य। हिमाचल में आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अनूप केसरी के खिलाफ महिला विंग की अध्यक्ष ने अश्लील हरकत शिकायत की थी, जिसके बाद महिला विंग द्वारा की गई पुछताछ में अनूप केसरी फंसते नजर आए। पूछताछ समिति ने अनूप केसरी को पार्टी से बाहर निकालने की सिफारिश भी की। इसकी भनक लगते ही केसरी ‘आप’ से फुर्र होकर भाजपा की झोली में टपक गए। विधानसभा चुनाव से पहले लगे इस झटके को ‘आप’ संभाल नहीं पा रही है मगर डैमेज कंट्रोल के लिए मनीष सिसोदिया आगे आए और कहा ‘खुद को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी का दावा करनेवाली पार्टी की डर का हालत यह है कि रात को १२ बजे उनके प्रेसिडेंट और केंद्रीय मंत्री ‘आप’ के एक ऐसे व्यक्ति को भाजपा में शामिल कराते हैं, जिसके खिलाफ शिकायत है कि वो महिलाओं के खिलाफ गंदी बातें करता है। हम उसे पार्टी से निकालनेवाले थे। हिमाचल में भाजपा के जो सीएम के चेहरे हैं, वे बौखलाहट में एक चरित्रहीन व्यक्ति को गले लगा लेते हैं। जिस व्यक्ति को उन्होंने लिया है, उसकी सही जगह भाजपा ही है।
वसूली की खाता-बही
मेरठ पुलिस की मंडी पुलिस चौकी की वसूली सूची में चंदा पत्नी गणेश, एच एस नई बस्ती, हापुड़ लाइन-गांजा-शराब-एक लाख, राजवीर लोदा, नई बस्ती, आईटीआई के पास-गांजा-पचास हजार सहित ९ नाम हैं, जो नशे के अवैध कारोबार में लगे हैं। इसी तरह मलियाना, वेदव्यास पूरी, टीपी नगर पुलिस चौकियों की वसूली सूची में भी क्रमश: दो-तीन नाम पते उन लोगों के हैं, जो नशे के अवैध कारोबार से जुड़े हैं। इन चारों पुलिस चौकियों में मासिक वसूली की राशि ९-१० लाख रुपए होती है। किसी ने मेरठ के थाने की वसूली रेट सूची सोशल मीडिया पर वायरल कर दी, जिसके बाद पुलिस महकमे में बवाल मचा हुआ है। वसूली सूची में जुए और सट्टे के कारोबारियों के नाम सहित, स्थान और उनसे ली जानेवाली मासिक उगाही की रकम भी भी दर्ज है। इस पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रभाकर चौधरी बोले, ‘इस वायरल हुई पर्ची की जांच रिपोर्ट के बाद ही मामला दर्ज होगा।’
परीक्षा में भी खेला होबे!
पिछले साल बंगाल के विधानसभा चुनाव के दौरान सूबे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विपक्षियों को घेरने के लिए ‘खेला होबे’ का नारा दिया था, जिसके बाद से ही ये पूरे देश में बेहद मशहूर हो गया था। लेकिन अब बंगाल की परीक्षाओं तक में छात्रों ने इसका प्रयोग कर दिया है। पश्चिम बंगाल बोर्ड की १०वीं की परीक्षा देनेवाले छात्र ने उत्तर पत्रों में खेला होबे नारा लिख दिया। जिसके बाद नाराज अधिकारियों ने पैâसला किया है कि जो परीक्षार्थी १२वीं कक्षा की परीक्षा में इस प्रकार के राजनीतिक नारे लिखेगा उसके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। पश्चिम बंगाल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन द्वारा आयोजित १०वीं कक्षा की माध्यमिक परीक्षा के परीक्षकों ने पाया है कि कई छात्रों ने अपने उत्तर पत्रों पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस का एक नारा ‘खेला होबे’ लिख दिया। परीक्षा पिछले महीने आयोजित की गई थी। परिषद ने कहा है कि १२वीं कक्षा की परीक्षा में यदि कोई उम्मीदवार उत्तर पत्रों पर राजनीतिक संदेश लिखता है या चित्र बनाता है तो उस उम्मीदवार के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।
जदयू फिर निपटी
बिहार विधान परिषद चुनाव के नतीजों से राजद खुश है तो तीसरे नंबर पर रहने से जदयू निराश। पिछली बार जब जदयू और राजद का गठबंधन था तो भाजपा की ज्यादा सीटों पर जीत हुई थी। इस बार भाजपा के खाते में सात सीटें आई हैं, जबकि राजद छह सीटें जीतकर दूसरे और पांच सीटों के साथ जदयू तीसरे स्थान पर आई है। राजग को कुल १३ सीट हासिल हुई हैं लेकिन पिछले चुनाव के मुकाबले उसे नुकसान हुआ है। सीएम नीतीश कुमार के लिए ये नतीजे चौंकानेवाले हैं, इसलिए अब १६ अप्रैल को मुजफ्फरपुर के बोचहां विधानसभा सीट पर उपचुनाव पर भाजपा और राजद के बीच सीधी लड़ाई है। वीआईपी भी अपनी इस वर्तमान सीट पर जोर आजमाइश कर रही है। नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव अपनी पार्टी के लिए प्रचार में जुटे हैं।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और देश की कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में इनके स्तंभ प्रकाशित होते हैं।

अन्य समाचार