मुख्यपृष्ठस्तंभबंगाल भाजपा में इस्तीफा सत्र

बंगाल भाजपा में इस्तीफा सत्र

अजय भट्टाचार्य/ मुंबई। बंगाल में उपचुनाव के बाद भाजपा का भीतरी असंतोष फनफनाकर बाहर आ गया है। मुर्शिदाबाद के भाजपा विधायक गौरीशंकर घोष के भाजपा प्रदेश इकाई के महासचिव पद से और राज्य कार्यसमिति के सदस्यों बानी गांगुली और दीपांकर चौधरी ने पार्टी के प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए इस्तीफे उछाल दिए हैं। इन इस्तीफों और भाजपा सांसद सौमित्र खान की टिप्पणी के बाद भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अनुपम हाजरा ने पार्टी के पश्चिम बंगाल नेतृत्व को प्रदेश समिति के तीन सदस्यों के इस्तीफे के पीछे के कारणों का विश्लेषण और आत्मनिरीक्षण करने की सलाह दी है। साथ ही यह सवाल भी किया कि क्या वरिष्ठ नेता निर्णय लेनेवाली समिति में अब सहज महसूस नहीं कर रहे हैं? हाजरा ने एक सोशल मीडिया पोस्ट में कहा कि गौरीशंकर घोष एक अच्छे संगठनकर्ता हैं, जिन्होंने प्रदेश में भाजपा का झंडा ऊंचा किया। उनके जैसे लोगों की अब प्रदेश समिति का हिस्सा बनने में कोई दिलचस्पी क्यों नहीं है? इसका विश्लेषण किया जाना चाहिए।
बिजली गुल
समाजवादी पार्टी के दिन वाकई खराब चल रहे हैं। अब बरेली में बिजली विभाग ने पार्टी दफ्तर का बिल जमा न होने पर उसकी बिजली काट दी है। बरेली स्थित इस सपा कार्यालय पर पांच साल का १,१५,७५२ रुपए बिजली बिल बकाया है/था। बिजली विभाग चार महीने तक सपा कार्यालय पर रहम दिली दिखाता रहा, जबकि आम आदमी का दो महीने का बिल बकाया होने पर उसका कनेक्शन काट दिया जाता है। इन दिनों बिजली विभाग बकाया बिल वसूली अभियान चला रहा है। जिन उपभोक्ताओं ने अपना बिल जमा नहीं किया है, उनके कनेक्शन काट दिए गए हैं। उसी श्रेणी में सपा दफ्तर पर भी एक लाख १५ हजार रुपए का बिल बकाया था, जो पिछले पांच साल से जमा नहीं किया गया था। संबंधित लोगों को पहले सूचना दी गई थी, लेकिन इसके बावजूद भी कोई बिल जमा नहीं किया गया तो विभाग ने उनका कनेक्शन काट दिया है। अब १ महीने के अंदर अगर बिल जमा नहीं कराया तो विभाग की तरफ से सपा दफ्तर की कुर्की तय है। इससे पहले पार्टी के विधायक के पेट्रोल पंप पर बुलडोजर चल ही चुका है।
बिहार कांग्रेस में कमान पर मंथन
बिहार एमएलसी चुनाव में जिस तरह से सवर्ण मतदाता कांग्रेस और राजद की तरफ लौटे हैं, उसे देखते हुए राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर किसी सवर्ण को बैठाने की तैयारी चल रही है। जिस इज्जत के साथ निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा की छुट्टी की गई है पार्टी चाहती है कि उसी शांति के साथ नए अध्यक्ष की नियुक्ति भी हो जाए। राहुल गांधी ने मदन मोहन झा को अपने पद से इस्तीफा देने को कहा था। इसके बाद ही उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दिया। चर्चा है कि बिहार में कांग्रेस दलित या अल्पसंख्यक कोटे से किसी को अपना नया प्रदेश अध्यक्ष बनाना चाहती है मगर कई भूमिहार नाम चर्चा भी में हैं, जिन्हें दरकिनार नहीं किया जा सकता। पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व कन्हैया कुमार को आगे कर संगठन को अपने परंपरागत वोटरों से जोड़ना चाहता है। उधर, दलित विधायक राजेश राम, पूर्व विधायक अशोक राम और मीरा कुमार के नाम भी हवा में हैं। इसी क्रम में तारिक अनवर, शकील अहमद खान भी शामिल हैं। वैसे कांग्रेस विधायक विजय शंकर दुबे, श्याम सुंदर सिंह धीरज, अजीत शर्मा भी इस रेस में शामिल हैं।
कुंवर दान
अभी तक हिंदू विवाह की रीति-नीति में कन्यादान का खूब जिक्र होता था, मगर इन दिनों विवाह के एक वायरल वीडियो ने विवाह की एक नई अवधारणा ‘कुंवर दान’ को जन्म दिया है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक दिलचस्प वीडियो में एक दुल्हन पुराने रीति-रिवाजों को पीछे छोड़ अपने होनेवाले पति की मांग में सिंदूर भरती हुई नजर आ रही है। दूल्हा-दुल्हन शादी के मंडप में बैठे दिखाई दे रहे हैं। पहले दूल्हा अपनी दुल्हनिया की मांग में सिंदूर भरता है और फिर दुल्हन भी हाथ में सिंदूर लेकर दूल्हे की मांग भर देती है। दोनों ऐसा करते हुए बेहद खुश नजर आ रहे हैं। शादी का यह नया संस्करण ऑनलाइन वायरल हो गया। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर यह वीडियो ब्रह्मांड की मां नाम के हैंडल से साझा किया गया है।

अन्य समाचार