मुख्यपृष्ठस्तंभखरगोन में खुद चला बुलडोजर

खरगोन में खुद चला बुलडोजर

अजय भट्टाचार्य। खरगोन में मुस्लिम घरों को तोड़े जाने की घटना में मध्यप्रदेश सरकार के उस दावे की धज्जियां उड़ा दी गर्इं हैं, जिसमें कहा गया/जा रहा था कि अनधिकृत निर्माणों पर ही कार्रवाई की गई। साकेत गोखले को आरटीआई के जवाब में जिला मजिस्ट्रेट ने बताया है कि उनके कार्यालय द्वारा कोई ध्वस्तीकरण आदेश जारी नहीं किया गया था। ध्वस्तीकरण अभियान केवल ‘अनधिकृत अतिक्रमण’ के लिए था, जो कि सच नहीं है। सच तो यह है कि खरगोन में घरों को भूमि राजस्व अधिनियम, १९५९ के तहत ध्वस्त किया गया है। डीएम भू-राजस्व मामलों के प्रभारी अधिकारी होते हैं। यदि डीएम ने यह आदेश जारी नहीं किए हैं तो फिर यह आदेश किसने जारी किया है? सूबे के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दावा किया था कि कथित `पत्थरबाजी के आरोपियों’ के घरों को ध्वस्त कर दिया गया है। अब डीएम, इस पर यू-टर्न ले रहे हैं और कहते हैं कि केवल `अनधिकृत घरों’ को तोड़ा गया। लेकिन डीएम का यह भी दावा है कि जिला प्रशासन की ओर से कोई आधिकारिक आदेश जारी नहीं किया गया था।
सौगत हाजिर हों…!
तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद सौगत रॉय पार्टी आलाकमान के निशाने पर हैं। जल्दी ही उनसे पार्टी विरोधी बयानबाजी करने को लेकर जवाब-तलब किया जा सकता है। सूत्रों की मानें तो इसके पहले पार्टी ने सांसद को सतर्क किया था कि वे पार्टी के खिलाफ जाकर किसी तरह की टिप्पणी न करें। हाल ही में बलात्कार की घटना को लेकर सांसद ने कहा था कि महिला मुख्यमंत्री जिस राज्य में हैं वहां बलात्कार जैसी घटना का होना ही शर्मनाक है। बाद में उन्होंने सफाई दी थी कि भिड़ंत को लेकर भी सांसद ने नाराजगी जतायी थी। पार्टी ने उनसे जवाब मांगा है कि नहीं इस बारे में पूछने पर सांसद ने कहा कि अब तक उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। उनसे किसी तरह का जवाब तलब नहीं किया गया है।
नींबू कैंदे…!
नींबू कैंदे मैनु हाथ लगार्इं ना,
मिर्च बोले कुछ दिन मैनु खाई ना,
तेल भी कैंदी टंकी भरवी ना,
कहवे सिलिंडर मैंनु आग लगाई ना
महंगाई को समर्पित ये पंक्तियां गाकर पंजाब का एक सब्जी वाला सोशल मीडिया की सनसनी बना हुआ है। अभी तक लोग पेट्रोल-डीजल के हर रोज बढ़ती कीमतों से परेशान थे। लेकिन अब तो नींबू की आसमान छूती कीमतों ने इस गर्मी में लोगों का बुरा हाल कर रखा है। महंगा होने की वजह से आम लोगों के लिए तो नींबू खरीदना ही मुश्किल हो गया है। नींबू की कीमतों को लेकर सोशल मीडिया पर भी खूब मजाक बनाया जा रहा है। इस सब्जीवाले ने भी गाने के जरिए महंगाई पर ध्यान खींचा है।
सीएए का जिन्न फिर बाहर
संशोधित नागरिकता कानून यानी सीएए लागू नहीं होने के कारण मतुआ समुदाय में रोष है। हरिनघाटा के भाजपा विधायक असीम सरकार ने कहा है कि सीएए लागू नहीं हुआ तो जरूरत पड़ने पर हम आंदोलन कर सकते हैं। उत्तर २४ परगना के बैरकपुर के सूर्यपुरी में मतुआ समुदाय के एक मंदिर के उद्घाटन कार्यक्रम में असीम सरकार ने कहा, ‘मतुआ समुदाय उन पर (भाजपा) विश्वास करता है, वोट देकर १८ सीटें दिलवाई हैं। ऐसे में सीएए अब भी क्यों लागू नहीं किया गया, इसे लेकर मतुआ समुदाय में रोष है। मतुआ समुदाय के सभी लोगों को एक होकर इन मांगों के साथ सड़क पर उतरना होगा। राज्य सरकार ने सीएए का विरोध किया। सीएए लागू होने पर राज्य को भी पास करना होगा।’ इस कार्यक्रम में बनगांव लोकसभा के सांसद शांतनु ठाकुर ने कहा कि सीएए लागू होगा, चिंता नहीं है।

अन्य समाचार