मुख्यपृष्ठखबरेंझांकी : मुंगेरी सपने

झांकी : मुंगेरी सपने

अजय भट्टाचार्य। एक तरफ पार्टी पर्यवेक्षक की बंगाल भाजपा के नाकारापन की रिपोर्ट है तो दूसरी तरफ बंगाली नेताओं के मुंगेरीलाल के हसीन सपने भी हैं। विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने सपना देखा कि तृणमूल सरकार इस साल के अंत तक गिर जाएगी। क्यों और वैâसे गिरेगी यह नहीं बताया था? अब प्रदेशाध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने आगे का सपना देखा और बोले, `एक-एक कर सब जेल चले जाएंगे तो सरकार गिरेगी ही। यह स्पष्ट है कि एक समय बाद गिने-चुने कुछ तृणमूल नेता व विशेषकर राज्य के मंत्री ही जेल के बाहर रहेंगे, बाकी सब जेल के अंदर रहेंगे। अगर सब मंत्री जेल में रहेंगे तो सरकार वैâसे चलेगी? हमारा अनुमान है कि दिसंबर के मध्य तक ही ऐसी परिस्थिति तैयार होगी। राज्य के अधिकतर मंत्री जेल में रहेंगे। अगर ऐसा हुआ तो निश्चित तौर पर इस सरकार का पतन होगा। ममता बनर्जी के अलावा इस सरकार को और कौन चलाएगा?` इस मुद्दे पर हमला बोलते हुए तृणमूल के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा, `अगर ईडी-सीबीआई से सरकार बदल जाती तो राज्यपाल व मुख्यमंत्री जैसे पदों पर जांचकारी संस्थाओं के अधिकारी ही बैठाए जाएं।’

`आप` का खेला
आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल की हालिया गुजरात यात्रा का हासिल यह है कि राज्य के पूर्व गृहमंत्री प्रबोध रावल के पुत्र और कांग्रेस नेता चेतन रावल, पूर्व मुख्यमंत्री छबीलदास मेहता की पुत्री नीता मेहता और दलित लेखक सुनील जादव अब आम आदमी पार्टी में हैं। चेतन के पिता प्रबोध रावल १९८० के दशक में माधवसिंह सोलंकी सरकार में राज्य के गृहमंत्री थे और वे दो बार कांग्रेस की राज्य इकाई के अध्यक्ष भी रहे थे। सामाजिक कार्यकर्ता नीता मेहता केजरीवाल से मुलाकात करने के एक दिन बाद `आप` में शामिल हुर्इं। जादव ने २०१७ में राज्य सरकार का पुरस्कार विरोधस्वरूप लौटा दिया था। उन्होंने कहा कि दलितों को मंदिरों में प्रवेश नहीं करने देने, बारात में घोड़ी की सवारी नहीं करने देने या मूंछ रखने की अनुमति नहीं देने जैसे अत्याचार राज्य में बढ़ रहे हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। रावल, मेहता और जादव `आप` के राष्ट्रीय संयुक्त सचिव इंद्रनील राजगुरु की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए।
सरकारी डॉक्टर, प्राइवेट इलाज
यह तस्वीर बिहार के सरकारी अस्पतालों का सूरतेहाल बता रही है। पटना के आईजीईएमएस अस्पताल में इलाज करवाने के लिए पटना सहित बिहार के लाखों लोग आते हैं। महीनों डॉक्टर से मिलने के लिए इंतजार करते हैं। इनमें से किसी को आसानी से बेड मिलता है तो किसी को नहीं मिलता। कुल मिलाकर इतना कहा जा सकता है कि बिहार की जनता के लिए पीएमसीएच से भी अच्छा कोई हॉस्पिटल है तो वह आईजीईएमएस है। इसी अस्पताल के सबसे बड़े डॉक्टर अर्थात डायरेक्टर डॉ. सुनील कुमार जब बीमार होते हैं तो वो अपना इलाज आईजीईएमएस में न करवाकर पटना के सबसे महंगे मेदांता अस्पताल में करवाते हैं। एक बड़ा-सा एसी हॉल बुक करवाया जाता है। यहां आराम से वह अपना इलाज करवाते हैं। हाल-चाल जानने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचते हैं। डॉ. सुनील ही क्यों खुद मुख्यमंत्री बिहार के किसी सरकारी अस्पताल को अपनी आंख का ऑपरेशन लायक भी नही समझते।
मंगल यात्रा
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नॉर्वे के कूटनीतिज्ञ एरिक सोलहेम ने अपने ट्विटर एकाउंट पर हिमाचल प्रदेश की स्पीति घाटी की तस्वीरें साझा की हैं और वैâप्शन दिया है `राइड इन द मार्स` यानी मंगल में सवारी। ग्रीन बेल्ट एंड रोड इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष एरिक सोलहेम स्पीति घाटी के रंग की वजह से इसकी तुलना मंगल ग्रह से कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर इन तस्वीरों को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, `राइड इन द मार्स` इन तस्वीरों को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि संभवत: किसी ड्रोन द्वारा ली गई इन तस्वीरों में खूबसूरत चट्टानी इलाके, नीले आकाश और घुमावदार सड़क पर जो सबसे ज्यादा आकर्षित कर रही है, वह है चट्टानों के बीच से बहनेवाली एक नदी। तस्वीर में घुमावदार सड़क पर से गाड़ियां आते-जाते नजर आ रही हैं। भारत की खूबसूरती से काफी प्रभावित सोलहेम आए दिन इसी तरह की दिल छू लेनेवाली लुभावनी जगहों के वीडियोज और तस्वीरें साझा करते रहते हैं।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और देश की कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में इनके स्तंभ प्रकाशित होते हैं।

अन्य समाचार