मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनाझांकी : सबसे छोटा पुलिसवाला

झांकी : सबसे छोटा पुलिसवाला

अजय भट्टाचार्य। मध्य प्रदेश के कटनी जिले में पांच साल के एक बच्चे को पुलिस कांस्टेबल के रूप में नियुक्ति मिली है। खेलने की उम्र में अब ये मासूम बच्चा पुलिस विभाग में बाल कांस्टेबल कहलाएगा। इस दौरान इसे वेतन भी मिलेगा। पुलिस में नौकरी के दौरान पिता प्रधान आरक्षक चालक श्याम सिंह मरकाम की २३ फरवरी २०१७ को हार्ट-अटैक से मौत हो गई थी। पति की मौत के बाद पत्नी सविता मरकाम ने अपने ५ वर्षीय बेटे गजेंद्र मरकाम को पुलिस की? नौकरी दिलाने की ठानी। नरसिंहपुर में पद खाली न होने पर कटनी में पदस्थाना के निर्देश प्राप्त हुए। इसके बाद ५ साल के बच्चे को अनुकंपा पर नियुक्ति मिली है। मंगलवार को कटनी एसपी सुनील कुमार जैन ने अनुकंपा नियुक्ति पत्र देकर पुलिस लाइन में पदस्थापना की है। यह मप्र पुलिस का सबसे नन्हा कांस्टेबल बन गया है। बच्चे को नियुक्ति पत्र देते हुए जब पुलिस अधिकारी ने पूछा क्या तुम पुलिस की नौकरी करना चाहते हो तो उसने हाथ जोड़कर पहले आभार जताया फिर अपनी तोतली बोली में कहा- हां।

‘वोट की चोट’
बरेली में बारादरी थाना क्षेत्र के जगतपुर निवासी उजमा द्वारा भाजपा को वोट देने की चोट से उसका घर टूटने के कगार पर है। उजमा का आरोप है कि पति ने घर से निकालने के साथ ही तलाक देने की धमकी दी है। उसने इस मामले में योगी आदित्यनाथ से कार्रवाई की गुहार लगाई है। मेरा हक फाउंडेशन के दरबार में भी उसने इंसाफ के लिए फरियाद की है। मगर उसके ससुराल पक्ष ने आरोप बेबुनियाद बताते हुए काफी समय से विवाद की बात कही है। मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फहरत नकबी से उजमा की आवाज बनकर लड़ाई लड़ने की बात कही है। उजमा के शौहर तस्लीम के मामू के मुताबिक यह विवाद काफी समय से चल रहा है। लड़की पक्ष के लोग पैâसला चाहते थे। इसे लेकर आठ दिन पहले पंचायत भी हुई थी। उजमा ने तस्लीम से प्रेम विवाह किया था। प्रेम विवाह के बाद दोनों ही हंसी-खुशी अपनी जिंदगी को गुजार रहे थे लेकिन विधानसभा चुनाव में उनकी जिंदगी में भूचाल आ गया।
सहनी पर मंथन
बिहार में मुकेश सहनी की टहनी छांटने की कवायद चल रही है। इस सिलसिले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और भाजपा नेता नित्यानंद राय ने मुख्यमंत्री आवास जाकर नीतीश कुमार से मुलाकात की। उनकी नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद मुकेश सहनी भी मुख्यमंत्री आवास पहुंचे और नीतीश कुमार से बोचहां सीट को लेकर बात की। राय ने इस मुलाकात को होली की शुभकामना तक सीमित बताया, लेकिन कहा जा रहा है कि वो आलाकमान का संदेश लेकर ही मुख्यमंत्री आवास पहुंचे थे। इधर जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि मुकेश सहनी राजग में बने रहें, यह देखा जाना चाहिए। सहनी-नीतीश मुलाकात के वक्त जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और बिहार सरकार के मंत्री अशोक चौधरी भी मौजूद थे। मुकेश भाजपा के रवैये पर बोले कि भाजपा? ने बगैर उनसे विचार-विमर्श किए वहां सीट पर अपना प्रत्याशी खड़ा कर दिया। भाजपा ने पिछले विधानसभा उपचुनाव में अपने कोटे की सीट के रूप में बोचहां को मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी के लिए आवंटित किया था। यहां से वीआईपी के उम्मीदवार मुसाफिर पासवान जीते थे, लेकिन बीच कार्यकाल में ही उनका निधन हो गया और इस सीट पर उपचुनाव हो रहा है।
विकास पहले
बंगाल में भयकंर राजनीतिक दुश्मनी के बीच यह तस्वीर सुकून देती है। मिदनापुर में फुटओवर ब्रिज के उद्घाटन कार्यक्रम में भाजपा सांसद दिलीप घोष व तृणमूल विधायक जून मालिया साथ दिखे। जय श्रीराम व जय बांग्ला की नारेबाजी के बीच दिलीप घोष ने कहा हम लोग एक क्षेत्र से जनप्रतिनिधि हैं, जनता हमें चुनी है। पार्टी भले ही अलग है लेकिन जनता का विकास हमारी प्राथमिकता है। विधायक जून ने कहा कि उन्नयन के काम में राजनीति नहीं की जा सकती है। मुझे आमंत्रण मिला था इसलिए आई हूं। मेरे लिए विकास कार्य पहले है। इस तस्वीर से दोनों ही दलों के समर्थकों को सबक लेना चाहिए, जो राजनीतिक प्रतिस्पर्धा को निजी दुश्मनी मानकर आए दिन हिंसा में व्यस्त हैं।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और देश की कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में इनके स्तंभ प्रकाशित होते हैं।

अन्य समाचार