मुख्यपृष्ठस्तंभझांकी : महागठबंधन चाय वाला

झांकी : महागठबंधन चाय वाला

  • अजय भट्टाचार्य

महागठबंधन चाय वाला
बिहार में इन दिनों एक तरफ महागठबंधन सरकार की धूम है तो राजधानी पटना में महागठबंधन चाय वाले की। इस चाय वाले ने अपने स्टॉल पर महागठबंधन के नेताओं की तस्वीर भी लगा रखी है। मुख्यमंत्री नीतिश कुमार, राजद सुप्रीमो लालू, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और मंत्री तेज प्रताप की तस्वीर के साथ बेली रोड में लगी इस स्टॉल पर `महा गठबंधन चाय वाला आरजेडी प्रेमी नेता जी’ लिखा हुआ है। सड़क पर लगाई गई इस स्टॉल पर नेताओं की तस्वीर के साथ इसका नाम लोगों को अपनी तरफ खींच रहा है। इसके पहले भी पटना में राबड़ी आवास के पास एक आरजेडी चाय वाला के नाम से स्टॉल लगी थी। उस चाय के स्टॉल ने भी खूब चर्चा बटोरी थी। फिलहाल महागठबंधन चाय वाले के यहां चाय पीने के लिए ग्राहकों की भारी भीड़ भी जुट रही है। स्टाल चलाने वाले युवक की इच्छा है कि नीतिश कुमार, लालू यादव, तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव उसकी दुकान में आकर एक बार चाय जरूर पीएं।
बोलबचन पर नोटिस
बंगाल सरकार में उपभोक्ता मामलों के राज्यमंत्री श्रीकांत महतो के बोलबचन के चलते पार्टी ने उन्हें कारण बताओ नोटिस थमा दिया है। उनका एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें श्रीकांत को कहते सुना गया कि उमा सरेन, संध्या रॉय, मुनमुन सेन, जून मालिया, सयानी, सयंतिका, मिमी, नुसरत, नेपाल सिंह, संदीप सिंह और उत्तरा सिंह जैसे नेता ‘लूट’ खा रहे हैं। इसके बावजूद उन्हें पार्टी की ‘संपत्ति’ माना जाता है। श्रीकांत महतो के बयान के बाद तृणमूल कांग्रेस में हड़कंप मच गया था। वीडियो अभिषेक बनर्जी तक पहुंच गया अथवा पहुंचा दिया गया। उसके बाद ही विधायक श्रीकांत महतो को कारण बताओ नोटिस दिया गया। मिदनापुर और घाटाल सांगठनिक जिले के समन्वयक व विधायक अजीत माईती ने पार्टी के लेटरहेड पर महतो को कारण बताओ नोटिस दिया है। इस बारे में अजीत माईती ने कहा कि विधायक श्रीकांत ने फोन कर माफी भी मांगी। महतो का कहना है कि वह पार्टी के सैनिक हैं इसलिए नाराज होने का तो सवाल ही नहीं उठता। पार्टी में सब कुछ उनकी पसंद का तो होता नहीं है इसलिए घरेलू चर्चे में ऐसी बातें कह गया लेकिन पार्टी से विशेष अनुरोध है कि मुझे गलत न समझें।
मोदी-पटेल की बंद कमरे में बैठक
प्रधानसेवक नरेंद्र मोदी का हालिया गुजरात दौरा हैरान करने वाला रहा। निश्चित समय से वह दो घंटे पहले पहुंचे और एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और उनके मुख्य प्रधान सचिव के कैलाशनाथन के साथ बंद कमरे में बैठक की। पहले ऐसी अटकलें थीं कि मोदी रात में राजभवन में पार्टी नेताओं से मुलाकात करेंगे। हालांकि मोदी ने अपनी मां हीराबा से मुलाकात की और राजभवन में दिन के लिए सेवानिवृत्त हुए। अगले दिन महात्मा मंदिर में मारुति सुजुकी के समारोह के बाद मोदी सीधे कमलम पहुंचे और भाजपा की कोर कमेटी के साथ बैठक की। कमलम के ड्राइव के दौरान उनके साथ भूपेंद्र पटेल भी थे। पार्टी के भीतर एयरपोर्ट मीटिंग को लेकर खासी हलचल है कि आखिर अब किसका विकेट गिरने वाला है? कैलाशनाथन की हाजिरी में हुई यह बैठक नौकरशाहों में भी चर्चा का विषय है।
लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और देश की कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में इनके स्तंभ प्रकाशित होते हैं।
शाह पर भड़के अभिषेक
तृणमूल के स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में गांधी मूर्ति के निकट आयोजित कार्यक्रम में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने अमित शाह और भाजपा के देशभक्ति को आड़े हाथों लिया। बोले कि ममता बनर्जी से लड़ने से पहले भाजपा, माकपा को तृणमूल छात्र परिषद से लड़ना होगा। दुबई में भारत-पाकिस्तान का मैच था, मगर अमित शाह के बेटे ने तिरंगा लेने से मना कर दिया। देशभक्ति का भाषण देनेवाले के बेटे ने राष्ट्रीय ध्वज लेने से मना किया। उल्लेखनीय है कि सोशल मीडिया पर भी एक वीडियो वायरल है, जिसमें बीसीसीआई के महासचिव व अमित शाह के बेटे जय शाह को दीर्घा में एक व्यक्ति तिरंगा देने की कोशिश करता है, मगर जय शाह तिरंगा नहीं थामते। अभिषेक ने चुनौती दी कि किसी की क्षमता नहीं बंगाल भारत से तृणमूल को हटा के दिखा दे। अगर कोई सोचता है कि तृणमूल सिर झुकाएगा तो गलतफहमी है, ये तृणमूल सिर्फ जनता के सामने सिर झुकाएगी। नाम लेकर बोल रहा हूं बेईमान गद्दार चोर है शुभेंदु अधिकारी, दिलीप घोष, सुकांत मजूमदार।

अन्य समाचार