मुख्यपृष्ठस्तंभझांकी : पार्थ के गार्ड पर शिकंजा

झांकी : पार्थ के गार्ड पर शिकंजा

  • अजय भट्टाचार्य

पार्थ के गार्ड पर शिकंजा
बंगाल शिक्षक भर्ती घोटाले में पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी का एक और कारनामा सामने आ रहा है। उनके अंगरक्षक के १० रिश्तेदारों को भी शिक्षा विभाग में नौकरी मिल गई। एक झटके में भाई-भाभी से लेकर दामाद तक सबको सरकारी शिक्षक बना दिया गया। अब इस मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट ने १० प्राथमिक शिक्षकों को मिली नौकरी की जांच का आदेश दिया है। ये सभी शिक्षक मंत्री पार्थ चटर्जी के अंगरक्षक विश्वंबर मंडल के रिश्तेदार हैं। इन भर्तियों को पश्चिम बंगाल एसएससी भर्ती घोटाले से सीधे तौर पर जोड़ा जा रहा है। न्यायमूर्ति अभिजीत गंगोपाध्याय ने राज्य स्तरीय चयन परीक्षा की उम्मीदवार बीथिका अदक की ओर से प्रस्तुत एक हलफनामे पर सुनवाई पर सभी से अपनी नौकरी के विवरण के बारे में १७ अगस्त तक हलफनामा दाखिल कर उन्हें यह नौकरी कैसे मिली, बताने का आदेश जारी किया है। याचिकाकर्ता ने २२ जुलाई को शिकायत की थी कि बिश्वंबर के भाई बंशीलाल मंडल और देबगोपाल मंडल, पत्नी रीना मंडल, बहनोई अरूप भौमिक, भाभी पूर्णिमा मंडल और दामाद सोमनाथ पंडित समेत उनके परिवार के अन्य रिश्तेदारों को शिक्षक की नौकरी दी गई।
१९ दिन पहले मना स्वतंत्रता दिवस
देश भर में स्वतंत्रता की ७५वीं वर्षगांठ का जश्न १५ अगस्त को मनाया जाएगा लेकिन उज्जैन और मंदसौर के दो प्रसिद्ध मंदिरों में १९ दिन पहले ही बुधवार को स्वतंत्रता दिवस मना लिया गया। पिछले कई वर्षों से चली आ रही परंपरा के तहत हिंदू पंचांग के आधार पर श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। इस साल यह तिथि बुधवार को थी। उज्जैन के महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के पास स्थित बड़ा गणेश मंदिर के प्रमुख आनंद शंकर व्यास के मुताबिक जब १५ अगस्त १९४७ को देश आजाद हुआ, तब हिंदू पंचांग के मुताबिक श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी थी। मंदिर में पिछले ४५ सालों से इसी तिथि के अनुसार विशेष पूजा-पाठ कर स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है, ताकि भारतीय संस्कृति को बढ़ावा मिले। मंदिर में भगवान गणेश तथा तिरंगे की पूजा और भोग-आरती के बाद राष्ट्रध्वज को मंदिर पर पूरे सम्मान के साथ फहराया जाता है। इसी तरह मंदसौर में शिवना नदी के किनारे स्थित प्राचीन पशुपतिनाथ मंदिर में भी बुधवार को स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। पिछले दो साल से कोविड-१९ के प्रकोप के कारण पशुपतिनाथ मंदिर में स्वतंत्रता दिवस सीमित स्वरूप में मनाया जा रहा था, लेकिन इस बार इसके आयोजन में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। मंदसौर के इस प्राचीन मंदिर में श्रावण कृष्ण चतुर्दशी को स्वतंत्रता दिवस मनाने की परंपरा वर्ष १९८५ से जारी है।
सिद्धरामोत्सव का जवाब
कल कर्नाटक में बसवराज बोम्मई ने अपने कार्यकाल का एक वर्ष पूरा कर लिया। विपक्ष के नेता सिद्धारमैया के ७५ वें जन्मदिन के अवसर ३ अगस्त को आयोजित सिद्धरामोत्सव के जवाब में भाजपा ने बोम्मई शासन का एक साल खत्म होने पर कल से सभी जिलों में ‘जनोत्सव’ रैलियों का आयोजन शुरू कर दिया है। सूबे के संस्कृति मंत्री सुनील कुमार के मुताबिक जनोत्सव कार्यक्रम में पार्टी के नेता राज्य और केंद्र सरकारों की विभिन्न पहलों पर लोगों में जागरूकता पैदा करेंगे। वे सिद्धरामोत्सव को अस्वीकार कर देंगे। भाजपा, कांग्रेस और जदसे में अंतर है। हम भाजपा में लोगों के पास जाएंगे और उन्हें बताएंगे कि हमने पिछले तीन वर्षों में क्या किया है? हम चाहते हैं कि सभी सरकारी कार्यक्रम सभी लाभार्थियों तक पहुंचे। मतलब यह कि जनोत्सव सिर्पâ भाजपा के लोगों के लिए है, बाकी जनता अपना देख ले।
फिर फोटो राजनीति
दिल्ली के वन महोत्सव समापन कार्यक्रम के पोस्टर पर जबरन प्रधानसेवक की तस्वीर लगाने का दूसरा संस्करण तमिलनाडु में देखने को मिल रहा है। कल से शुरू हुए ४४वें शतरंज ओिंलपियाड के लिए तमिलनाडु सरकार के प्रचार अभियान होर्डिंग पर भाजपाइयों प्रधानसेवक नरेंद्र मोदी के चमकीले चित्र चिपका दिए। तमिलनाडु भाजपा के खेल और कौशल विकास प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अमर प्रसाद रेड्डी ने दो अन्य लोगों के साथ होर्डिंग्स पर मोदी की तस्वीरें चिपकाते हुए एक वीडियो क्लिप जारी किया और द्रमुक शासन को मोदी की तस्वीर को शामिल किए बिना शतरंज के आयोजन के लिए अभियान को आगे बढ़ाने के लिए दोषी ठहराया और इसे ‘बहुत बड़ी गलती’ करार दिया। रेड्डी का तर्क है कि ओिंलपियाड राज्य स्तरीय आयोजन नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता है। मामल्लापुरम शुरू हुए ४४वें ओिंलपियाड का समापन १० अगस्त को होगा। राज्य सरकार ने इस आयोजन के लिए ९२.१३ करोड़ रुपए आवंटित किए हैं।

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और देश की कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में इनके स्तंभ प्रकाशित होते हैं।)

अन्य समाचार