मुख्यपृष्ठस्तंभझांकी : यह कैसी श्रद्धांजलि...!

झांकी : यह कैसी श्रद्धांजलि…!

  • अजय भट्टाचार्य

यह कैसी श्रद्धांजलि…!
मदुरै में तमिलनाडु के वित्तमंत्री पलानीवेल त्यागराजन की कार पर चप्पल फेंकने के आरोप में पुलिस ने भाजपा के पांच कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। त्यागराजन जम्मू-कश्मीर के राजौरी में शहीद हुए राइफलमैन डी लक्ष्मणन को श्रद्धांजलि देने के लिए मदुरै पहुंचे थे, इसी दौरान उनकी कार पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने चप्पल फेंका। पता चला है कि भाजपा कार्यकर्ता पार्टी के राज्य प्रमुख के अन्नामलाई के स्वागत के लिए वहां जमा हुए थे। इसी दौरान चप्पल फेंक वीरता को अंजाम दिया गया। श्रद्धांजलि देने की जगह भाजपा के पार्टी कार्यकर्ताओं से भरी हुई थी। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के अन्नामलाई भी श्रद्धांजलि देना चाहते थे। इस बीच मदुरै भाजपा जिलाध्यक्ष सरवणन ने इस घटना के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया और कहा कि भाजपा के पद से ज्यादा महत्वपूर्ण है मानसिक शांति। मंत्री की कार पर हमले की घटना ने मुझे विचलित कर दिया। मैंने मंत्री से मिलकर माफी मांगी। उधर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष द्वारा जारी बयान के अनुसार सरवणन को पार्टी से निकल दिया गया है।
द्वारका चिंतन में निकली रेवड़ी
राजनीतिक रेवड़ी संस्कृति पर सुप्रीम कोर्ट में जारी बहस के बीच गुजरात कांग्रेस ने साल के अंत में होनेवाले विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखकर घोषणा की है कि यदि कांग्रेस को सत्ता मिली तो तीन लाख रुपए तक की कृषि ऋण माफी और किसानों को १० घंटे मुफ्त बिजली दी जाएगी। गुजरात कांग्रेस प्रमुख जगदीश ठाकोर और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भरत सोलंकी ने कहा कि अगर कांग्रेस सरकार बनी तो पहली कैबिनेट  बैठक में दोनों वादे पूरे किए जाएंगे। किसानों को राहत देने का फैसला  पार्टी के द्वारका चिंतन शिविर में लिया गया। कुछ अन्य वादों में दूध उत्पादकों को पांच रुपए प्रति लीटर की सब्सिडी, किसानों के खिलाफ बिजली चोरी के मामलों की वापसी और कस्बों-शहरों में कृषि सहायता केंद्र स्थापित करना शामिल है। पार्टी ने किसानों को एमएसपी पर बोनस देने का भी वादा किया। कांग्रेस ने पढ़े-लिखे बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने का वादा भी किया है। इससे पहले, आप ने कई वादे किए थे, जिसमें हर महीने ३०० यूनिट तक मुफ्त बिजली और बेरोजगार युवाओं के साथ-साथ १८ वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए भत्ता शामिल था।
भूमिहारों पर मेहरबान राजद
नीतीश कुमार के नेतृत्ववाली नई महागठबंधन सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार होना है और राजद के कोटे से १६ मंत्री बनेंगे। इसमें आलोक मेहता, अनीता देवी, बागी कुमार वर्मा, शाहनवाज, भाई वीरेंद्र, सर्वजीत, तेजप्रताप यादव, ललित यादव, भूरेव चौधरी और अनिल सहनी के नाम पर फिलहाल आम सहमति बन गई है। लेकिन वीणा देवी, प्रभाकर सिंह, सौरभ कुमार, राहुल तिवारी, बच्चा पांडेय और डॉ. शम्मी के नाम पर अभी पेंच फंसा है। खबर है कि लालू प्रसाद इन सभी से अपने पटना प्रवास के दौरान तय करेंगे कि इनमें से कौन मंत्री बनेंगे और कौन नहीं। विधान परिषद चुनाव में तेजस्वी यादव ने सवर्णों को जोड़ने की कवायद शुरू की थी, जिसके परिणाम भी अच्छे रहे। अब तेजस्वी भूमिहारों को भी सरकार में मंत्री बनाना चाहते हैं। विधान सभा भूमिहार कोटा से पार्टी के पास कोई विधायक नहीं है। इसको देखते हुए राजद विधान परिषद से अपने तीन पार्षद कार्तिक कुमार, सौरभ और अजय में से किसी को मौका दे सकती हैं। जदयू अध्यक्ष ललन सिंह भी सौरभ की फील्डिंग में लगे हैं।
जीवनदायिनी बहन
रक्षाबंधन के दिन सामान्यत: भाई बहनों को उपहार देते हैं, मगर आशा सुथार ने अपने भाई दयालाल को जो उपहार दिया उसकी बदौलत पूरे परिवार के लिए इस बार का रक्षाबंधन एक नया जीवन लेकर आया। राजस्थान के बांसवाड़ा में गढ़ी तहसील के ५१ वर्षीय दयालाल किडनी फेल होने के बाद दिसंबर २०२१ से डायलिसिस पर थे। यह महज एक संयोग था कि रक्षाबंधन से एक दिन पहले दयालाल का गांधीनगर के निकट भट के एक निजी अस्पताल में सफल गुर्दा प्रत्यारोपण हुआ। त्योहार एक भाई के अपनी बहन की रक्षा करने के वादे का प्रतीक है लेकिन इस मामले में यह आशा थी, जो अपने बड़े भाई के बचाव में आई। दयालाल के बहनोई और आशा के पति सुरेश सुथार का ब्लड ग्रुप भी दयालाल से मेल खाता था और वह भी एक किडनी दान कर सकते थे। लेकिन आशा ने उन्हें यह कहकर रोक दिया कि वह मेरा भाई है और मैं डोनर बनना चाहता हूं। वह इस बात से भी चिंतित थीं कि चूंकि सुरेश परिवार के एकमात्र कमाने वाले सदस्य हैं।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और देश की कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में इनके स्तंभ प्रकाशित होते हैं।

अन्य समाचार