मुख्यपृष्ठसमाचारझारखंड की चंपई सोरेन सरकार फ्लोर टेस्ट में पास...पक्ष में पड़े 47...

झारखंड की चंपई सोरेन सरकार फ्लोर टेस्ट में पास…पक्ष में पड़े 47 वोट… विरोध में 29

अनिल मिश्र / रांची

झारखंड विधानसभा में आज दोपहर दो बजे हुए फ्लोर टेस्ट में मुख्यमंत्री चंपई सोरेन सरकार पास हो गई। विधानसभा अध्यक्ष द्वारा विश्वास प्रस्ताव पर कराई गई वोटिंग में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के नेतृत्व वाले गठबंधन सरकार को 47 वोट मिले, जबकि प्रस्ताव के विरोध में 29 वोट डाले गए। वोटिंग के दौरान सरयु राय तटस्थ रहे, जबकि निर्दलीय अमित यादव विधानसभा में आए ही नहीं। चंपई सोरेन सरकार के फ्लोर टेस्ट के लिए आज विधानसभा में विशेष सत्र बुलाया गया था। फ्लोर टेस्ट में हिस्सा लेने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व वाली सत्तारूढ़ गठबंधन के सभी विधायक विधानसभा पहुंचे। 81 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में झारखंड मुक्ति मोर्चा- कांग्रेस-राष्ट्रीय जनता दल गठबंधन के 47 विधायक हैं।

इसे एक और सीपीआईएमएल (एल) के विधायक का बाहर से समर्थन प्राप्त है। गौरतलब हो कि 31 जनवरी के देर रात ईडी द्वारा तत्कालिन मुखयमंत्री हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी के बाद काफी अटकलों और कयासों के बीच 2 फरवरी को सरायकेला के विधायक एवं हेमंत सोरेन के करीबी चंपई सोरेन को दो अन्य विधायकों के साथ मुख्यमंत्री के पद पर शपथ राज्यपाल महामहिम डाॅ. सीपी राधाकृष्णन दिलाई थी। साथ ही दस दिनों के भीतर विश्वास मत हासिल करने को कहा था। हालांकि, चंपई सोरेन सरकार द्वारा दो दिनों के अंअंदर ही विश्वास मत हासिल कर झारखंड में पुनः एक स्थिर सरकार जल्द ही बहाल हो गई। इस बीच विरोधी दलों द्वारा विधायकों की तोड़-फोड़ की आशंका के कारण 37 विधायकों को तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के एक रिसोर्ट में दो दिनों तक रखना पड़ा।

कल देर शाम एक विशेष विमान से इन सभी विधायकों को हैदराबाद से रांची लाया गया। उसके बाद उन्हे सीधे राजकीय अतिथि शाला में ठहराया गया। आज सुबह वहां से निकलकर सभी विधायक विधानसभा पहुंचकर चंपई सोरेन सरकार के पक्ष में मतदान कर चंपई सरकार को विश्वास मत देकर स्थितरता प्रदान किया, वहीं विश्वास मत हासिल करने के बाद मुख्यमंत्री चंपई सोरेन ने सभी विधायकों को धन्यवाद और आभार व्यक्त किए। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि हमारी एकता ने राज्य सरकार को अस्थिर करने वाले षडयंत्रकारियों के षड्यंत्र विफल कर दिए। हमारी सरकार हेमंत बाबू द्वारा शुरु की गई योजनाओं को गति देकर राज्य के आदिवासी, मूलवासियों, दलितों एवं आम लोगों के जीवन स्तर में बदलाव लाने का प्रयास करेगी।

अन्य समाचार