मुख्यपृष्ठखबरेंकाम की बात : बनाया सिर्फ कायदा, नहीं मिल रहा फायदा! ......

काम की बात : बनाया सिर्फ कायदा, नहीं मिल रहा फायदा! … `पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन’ योजना

योगेश कुमार गोयल : कोरोना महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों की मदद के लिए बीते वर्ष केंद्र सरकार ने पीएम केयर फंड से कई योजनाओं का एलान किया था। कोरोना से अपने माता-पिता को खोनेवाले बच्चों की शिक्षा से लेकर स्वास्थ्य तक में केंद्र सरकार ने मदद के लिए भी योजना बनाई थी। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से एलान किया गया था कि कोरोना महामारी में माता-पिता को गंवाने वाले बच्चों की `पीएम केयर्स फॉर चिल्डे्रन’ योजना के तहत मदद की जाएगी। सरकार की ओर से अनाथ बच्चों को मुफ्त शिक्षा दी जाएगी और उनका हेल्थ बीमा भी किया जाएगा लेकिन इसके लिए सरकार ने किसी भी प्रकार का जागरूकता वैंâप या कोई विज्ञापन नहीं दिया, जिसकी वजह से अब तक इस योजना का लाभ ३ प्रतिशत बच्चे भी नहीं ले सके। मतलब कायदा यानी कानून तो बन गया पर उसका फायदा बच्चे नहीं ले पा रहे हैं। जबकि इस योजना के लिए हर वर्ग, जाति व धर्म का बच्चा अप्लाई कर सकता है। १० साल से कम उम्र के बच्चों को नजदीकी केंद्रीय विद्यालय या प्राइवेट स्कूल में डे स्कॉलर के रूप में एडमिशन दिया जाता है। जिन बच्चों का एडमिशन प्राइवेट स्कूल में हुआ है तो पीएम केयर्स फंड से राइट टु एजुकेशन के नियमों के मुताबिक फीस दी जा रही है। स्कूल ड्रेस, किताबों और नोटबुक पर होने वाले खर्च के लिए भी भुगतान किया जाता है। इसके अलावा पीएम केयर्स फंड से ऐसे हर बच्चे के लिए एक कोष बनाया जाता है, जिसमें १० लाख रुपए जमा किए जाते हैं। इसके जरिए १८ साल की उम्र होने तक बच्चे को हर महीने एक तय राशि मदद के तौर पर मिलेगी और २३ साल की उम्र होने पर उसे यह पूरी रकम एक साथ दे दी जाएगी। बच्चे को मौजूदा एजुकेशन लोन नॉर्म्स के मुताबिक हिंदुस्थान में प्रोफेशनल कोर्स या हायर एजुकेशन के लिए लोन लेने में दे रही है। इस लोन का ब्याज भी पीएम केयर्स से दिया जा रहा है। इसके विकल्प के तौर पर ऐसे बच्चों को केंद्र या राज्य सरकार की योजनाओं के तहत ग्रेजुएशन या प्रोफेशनल कोर्स के लिए कोर्स फीस या ट्यूशन फीस के बराबर स्कॉलरशिप दी जा रही है। जो बच्चे मौजूदा स्कॉलरशिप स्कीम के तहत एलिजिबल नहीं हैं, उनके लिए पीएम केयर्स से उन्हें एक जैसी स्कॉलरशिप दे रही है। हेल्थ के क्षेत्र की बात करें तो सभी बच्चों को आयुष्मान भारत योजना के तहत लाभार्थी माना जाता है। उन्हें ५ लाख रुपए का हेल्थ बीमा कवर मिलता है। १८ साल की उम्र तक इन बच्चों की प्रीमियम राशि का भुगतान पीएम केयर्स से किया जाएगा।

ऐसे करें अप्लाई...
पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन की ऑफिसियल वेबसाइट https://pmmodiyojanaye.in/ पर जाएं। इसके बाद होम पेज पर दिए गए  PKFC योजना पर क्लिक करें। क्लिक करते ही आपके सामने नया पेज खुल जाता है इस पेज पर दिए गए विकल्पों में से PKFC पोर्टल पर क्लिक करें। इसके बाद पेज पर दिए गए Login Form for Registered Applicant पर क्लिक करें।

अन्य समाचार