मुख्यपृष्ठअपराधकलियुगी  बेटा हुआ खूंखार... कैंची से किया मां-बाप पर वार!

कलियुगी  बेटा हुआ खूंखार… कैंची से किया मां-बाप पर वार!

सामना संवाददाता / फरीदाबाद 
फरीदाबाद में एक बेहद दिल दहला देनेवाली घटना सामने आई है, जहां एक कलयुगी बेटे की काली करतूत ने सभी को दंग कर दिया। मामूली झगड़े के कारण गुस्साए बेटे ने पहले तो अपने ही मां-बाप के मुंह में कपड़ा ठूंस दिया और फिर बाद में  कैंची से लगातार वार करता रहा, जिससे मां-बाप की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद आरोपी मौके से फरार हो गया। पड़ोसियों ने बताया कि लड़के का तलाक हो चुका है। दोनों बुजुर्ग दंपति बेटे को दूसरी शादी करने और नशा छोड़ने को कह रहे थे। इसे लेकर अक्सर उनका झगड़ा होता था। गुरुवार को भी बेटे ने देर रात लौटकर मां-बाप से लड़ाई की। इसके बाद उन्हें बांधकर उनके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया, फिर कैंची से उन पर कई वार किए। घर में मौजूद किराएदार ने बुजुर्गों की चीख-पुकार सुनी तो उन्होंने पड़ोसियों को बुलाया। सूचना मिलने पर पुलिस भी पहुंच गई। घटना में दंपति के दामाद ने केस दर्ज करवाया है।
पुलिस ने पोस्टमॉर्टम करवाकर दंपति के शव परिजनों को सौंप दिए हैं। फरार आरोपी की तलाश की जा रही है। ओल्ड फरीदाबाद निवासी रेखा ने बताया कि उनके माता-पिता और भाई भारत कॉलोनी, हनुमान नगर में रहते थे। ७० साल के पिता बीर सिंह हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण से रिटायर्ड थे। गुरुवार देर रात उनके ३८ साल के भाई जितेंद्र उर्फ जीतू ने पिता बीर सिंह व ६५ वर्षीय मां चंपा की हत्या कर दी। पड़ोसियों ने वारदात के बारे में बताया तो वह मौके पर पहुंची। उन्होंने देखा कि माता-पिता घर में लहूलुहान पड़े थे और उनका भाई फरार हो गया था।
रेखा ने बताया कि जितेंद्र की शादी १५ साल पहले संजय कॉलोनी निवासी एक लड़की से हुई थी। जितेंद्र ऑटो चलाता है। वह कई तरह के नशे का भी आदी है। नशे के कारण ही १० साल पहले पत्नी उसे छोड़कर मायके चली गई थी और फिर उनका तलाक हो गया। इसके बाद से वह मां-बाप के साथ रहता था।

बेटी करती थी मां-बाप की देखभाल

पुलिस ने बताया कि बुजुर्ग दंपति की तीन बेटियां हैं। इनमें से दो बेटियों सुरेखा और चंचल की शादी मथुरा में हुई है। एक बेटी रेखा ओल्ड फरीदाबाद में रहती है। रेखा रोजाना सुबह अपने मां-बाप के पास आ जाती थी। वह यहां दिनभर रुककर मां-बाप की सेवा करती थी और फिर शाम को अपने ससुराल चली जाती थी। गुरुवार शाम को भी वह मां-बाप की देखभाल के बाद अपने घर गई थी। बता दें कि बीर सिंह पंप ऑपरेटर के पद पर काम कर चुके हैं। वह गुड़गांव में तैनात रहे हैं। कुछ दिन पहले उनका पथरी का ऑपरेशन हुआ था। जितेंद्र नशे का इतना लती था कि वह अक्सर ऑटो चलाने नहीं जाता था। साथ ही अपने पिता से पैसे छीनकर नशा करने चला जाता था। गुरुवार को भी वह ऑटो चलाने नहीं गया था और घर से पैसे लेकर नशा करने चला गया था। हत्या के बाद बाद दोनों को कमरे में बंद कर आरोपी फरार हो गया था। बताया गया कि पूरी घटना घर में मौजूद किराएदार महिला ने देखी लेकिन डर के कारण वह बाहर नहीं निकल पाई।

अन्य समाचार