मुख्यपृष्ठसमाचारटूरिस्ट डेस्टीनेशन बनता कश्मीर! ...भीषण गर्मी के बावजूद बढ़े यात्री

टूरिस्ट डेस्टीनेशन बनता कश्मीर! …भीषण गर्मी के बावजूद बढ़े यात्री

सुरेश एस डुग्गर / जम्मू। यह खबर सच में खुशी मनाने वाली है कि पर्यटन के बाजार में कश्मीर और वैष्णो देवी की यात्रा एक बार फिर टाप गियर में पहुंच गई हैं। यह गति बरकरार रहे, इसकी खातिर चारों ओर दुआ करने का सिलसिला भी जारी है और उन तत्वों को चेतावनी देने का भी जिनके प्रति आम जनता को शक है कि वे अभी तक शांत बने हुए माहौल को बिगाड़ कर पर्यटन से जुड़े लोगों की रोजी-रोटी पर लात मार सकते हैं।

पिछले ३ महीनों में समाचार लिखने तक कश्मीर में करीब पौने चार लाख टूरिस्ट आ चुके हैं। इनमें अच्छी खासी संख्या विदेशियों की भी है। माना कि कश्मीर के लिए यह आंकड़ा बहुत ही कम है पर कश्मीरी इसमें भी खुशी मनाने को तैयार हैं क्योंकि पिछले तीन सालों से यह खुशी उनसे लगातार छीनी जा रही है।

ट्रैवल एजेंसियों के अनुसार, बढ़ती गर्मी के बीच कश्मीर एक बेहतर टूरिस्ट डेस्टीनेशन बनता जा रहा है। इसे माना जा रहा है कि पिछले कुछ सालों की बनिस्बत इस साल २५ से ३० परसेंट ज्यादा टूरिस्ट कश्मीर के लिए पैकेज ले रहे हैं। दो सालों तक कोरोना की मार को कश्मीर ने झेला है जबकि उसके पहले साल तो ट्रैवल एजेंसियों ने कश्मीर को अपनी सूची से बाहर कर दिया था क्योंकि पत्थरबाजों ने हालात जो इतने खराब कर दिए थे।

पर्यटन के बाजार में दूसरा स्थान पाने वाला वैष्णो देवी का तीर्थस्थान है। भीषण गर्मी के बावजूद आने वालों के कदम रुक नहीं पा रहे हैं। यह इसी से साबित होता है कि साल के पहले ३ महीनों में वैष्णो देवी आने वालों की संख्या १६ लाख के करीब पहुंच गई है और भीषण गर्मी के बावजूद ३७ से ४० हजार श्रद्धालु प्रतिदिन बेस वैंâप कटड़ा पहुंच रहे हैं।

जब कश्मीर के पर्यटन और वैष्णो देवी की बात हो रही हो तो अमरनाथ यात्रा को भुलाया नहीं जा सकता। इस बार अमरनाथ यात्रा में शामिल होने की इच्छा रखने वालों के उत्साह की खबरें आनी शुरू हो गई हैं। इस महीने की ११ तारीख को अमरनाथ यात्रा के लिए आनलाइन पंजीकरण आरंभ हो जाएगा। दो सालों तक बंद रही यात्रा में इस बार १० लाख से अधिक को न्योता दिया जा रहा है।

अन्य समाचार