मुख्यपृष्ठअपराधमोबाइल के लिए मार डाला! ... दोस्त बना दुश्मन

मोबाइल के लिए मार डाला! … दोस्त बना दुश्मन

तहकीकात
नागमणि पांडेय

अगर आपसे कहा जाए कि केवल २ हजार रुपए के मोबाइल के लिए अपने दोस्त की हत्या कर दी जाए तो यह सुनकर आप भी जरूर आश्चर्यचकित होंगे। हालांकि, यह बिलकुल सत्य घटना है। यह घटना मुंबई के उपनगर साकीनाका की है, जहां मोबाइल नहीं देने पर दोस्त ने दोस्त की हत्या करके फरार हो गया। पुलिस इस मामले में आरोपी दोस्त को गिरफ्तार कर इस सनसनीखेज मामले का खुलासा किया है।
बता दें कि १५  दिसंबर २०१५ के दिन रविवार की सुबह साकीनाका पुलिस स्टेशन में फोन की घंटी बजी। पुलिस स्टेशन में मौजूद पुलिस अधिकारी फोन उठाते ही अचंभे में पड़ गया। फोन करने वाले ने पुलिस को बताया कि साकीनाका के असल्फा स्थित कुलकर्णी वाडी में एक व्यक्ति घायल अवस्था में पड़ा है। उसके ऊपर जानलेवा हमला किया गया है, जिसके कारण वह खून से लतपथ है। इसके बाद साकीनाका पुलिस स्टेशन में हलचल मच गई। साकीनाका पुलिस स्टेशन के तत्कालीन वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक ने इसकी जानकारी तत्कालीन सहायक पुलिस आयुक्त शांतिलाल भामरे को दी। इसके बाद भामरे घटनास्थल पर पहुंचकर जख्मी हालत में पड़े युवक को उपचार के लिए घाटकोपर स्थित राजावाड़ी अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन जांच के बाद डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।
मृत युवक की जेब से मिले कागजातों के आधार पर उसकी पहचान शरद गुप्ता (२८) के रूप में हुई। इसके बाद पुलिस ने इसकी जानकारी उसके घर वालों को देने के बाद सबसे पहले अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच में जुट गई। इसी बीच पुलिस को जानकारी मिली कि शनिवार रात को शरद अपने कुछ दोस्तों के साथ था। इस जानकारी के आधार पर पुलिस ने उसके साथ रहने वाले युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। जांच के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि शनिवार को शरद के साथ रहने वाला सुधीर रावल घटना के बाद से ही फरार है।
मुंबई से भागने के फिराक में था
इसके बाद पुलिस की शक की सुई सुधीर की तरफ घूम गई। पुलिस ने सबसे पहले सुधीर की जानकारी निकाली तो पता चला कि शनिवार रात को शरद और सुधीर के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी भी हुई थी। इससे पुलिस को शक हो गया कि यह हत्या सुधीर ने ही की होगी। पुलिस को इसके लिए सुधीर की तलाश थी। पुलिस ने तुरंत कई टीम तैयार कर उसकी तलाश में लग गई। इसी दौरान सुधीर मुंबई से बाहर भागने की तैयारी में था, तभी वह पुलिस के हाथों लग गया।

कड़ाई से पूछताछ करने पर टूट गया
पुलिस द्वारा सुधीर को हिरासत में लेकर पूछताछ किए जाने पर पहले तो हत्या करने से साफ इंकार करने लगा। जब पुलिस ने कड़ाई की तो सुधीर टूट गया। सुधीर ने पुलिस को बताया कि वह और शरद दोनों एक अच्छे दोस्त थे, लेकिन शनिवार रात को शरद एक नया मोबाइल २ हजार रुपए में खरीदकर लाया था। सुधीर ने वह मोबाइल मांगा तो शरद ने उसे शर्मिंदा किया, जिसको लेकर सुधीर और शरद के बीच झगड़ा हुआ। इसके बाद सुधीर ने एक फरसे से शरद पर हमला कर दिया। उसके घायल होने के बाद से आरोपी सुधीर फरार हो गया था। आखिरकार, पुलिस ने जाल बिछाकर उसे गिरफ्तार कर लिया। इस मामले मे कोर्ट ने सबूतों के आधार पर दोषी करार दिया। आरोपी अब अपने अपराधों की सजा भुगत रहा है।

अन्य समाचार

लालमलाल!